पीएम मोदी करेंगे परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में छात्रों से बात, 1 अप्रैल को होगा प्रोग्राम

185
Pariksha Par Charcha 2022

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आने वाली 1 अप्रैल 2022 को परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम के तहत छात्रों से बात करेंगे. इस साल परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम के 5वें संस्करण का आयोजन किया जा रहा है. पीएम मोदी बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाले देशभर के छात्रों के साथ बातचीत करेंगे. प्रधानमंत्री ने ट्वीट करके खुद इस बात की जानकारी दी है. इस साल, प्रधानमंत्री छात्रों के साथ बातचीत करेंगे और आगामी परीक्षा सत्र के दौरान कैसे शांत और तनावमुक्त रहें इसका सुझाव देंगे. परीक्षा पे चर्चा (Pariksha pe Charcha 2022) के लिए आवेदन करने की आखिरी तारीख 3 फरवरी थी, इस तारीख को बढ़ा दिया गया था. इससे पहले आवेदन प्रक्रिया 27 जनवरी को बंद होने वाली थी, इससे पहले की समय सीमा 20 जनवरी थी.

पिछले साल, यह आयोजन अप्रैल में COVID-19 महामारी के कारण वर्चुअल मोड में आयोजित किया गया था. इच्छुक छात्र innovateindia.mygov.in पर इस बारे में ज्यादा विवरण (pariksha pe charcha 2022 registration link) देख सकते हैं. शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) ने कहा कि वह परीक्षा के तनाव को दूर करने के बारे में अपनी इनसाइट साझा करेंगे.

पीएम मोदी ने ट्वीट कर दी जानकारी

PM Modi से मिल सकेंगे छात्र
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) हर साल बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों से खुद बात करते हैं. वे उनकी परेशानी को सुनकर-समझकर उसका समाधान बताने की कोशिश करते हैं. इस साल देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में कमी को देखते हुए परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम भी ऑफलाइन मोड में आयोजित किया जा रहा है.

स्ट्रेस फ्री रहने की सलाह
बोर्ड परीक्षा की हो या किसी भी अन्य परीक्षा की, इस दौरान छात्रों का स्ट्रेस फ्री रहना अनिवार्य है. तनाव के साथ किसी भी परीक्षा की बेस्ट तैयारी नहीं की जा सकती है. ‘परीक्षा पे चर्चा’ 2022 कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी छात्रों को परीक्षा के दौरान तनावमुक्त रहने के टिप्स बताएंगे (Board Exam Tips). इससे छात्रों को परीक्षा के दौरान काफी मदद मिल जाएगी.

परीक्षा पे चर्चा किट
कक्षा 9, 10, 11 और 12 के स्कूली छात्र कार्यक्रम का हिस्सा बन सकेंगे. छात्र अपने लिए निर्दिष्ट केवल एक थीम में भाग ले सकते हैं. उनकी गतिविधि के लिए उल्लिखित शब्द सीमा से अधिक नहीं होना चाहिए जो मूल, रचनात्मक और सरल हों. प्रत्येक विजेता को निदेशक, एनसीईआरटी की ओर से प्रशंसा पत्र और प्रधानमंत्री मोदी की ओर से लिखित हिंदी और अंग्रेजी में परीक्षा योद्धाओं की एक विशेष परीक्षा पे चर्चा किट मिलेगी.