चीन भारत-भूटान के साथ अपनी सीमा के संबंध में ‘बलप्रयोग की रणनीति’ अपना रहा है : पेंटागन

517

अमेरिकी डिफेंस हेडक्वार्टर पेंटागन ने मंगलवार को जारी अपनी रिपोर्ट में दावा किया चीन दक्षिण और पूर्वी चीन सागर में क्षेत्रीय और समुद्री दावों के साथ-साथ भारत और भूटान के साथ अपनी सीमा के संबंध में बलप्रयोग रणनीति का उपयोग कर रहा है. चीन दक्षिण चीन सागर और पूर्वी चीन सागर दोनों में काफी उत्तेजक रूप से लड़े गए क्षेत्रीय विवादों में लिप्त है. बीजिंग ने कई द्वीपों का निर्माण और सैन्यीकरण किया है और क्षेत्र में इसे नियंत्रित करता है.

यह दोनों क्षेत्रों को खनिज, तेल और अन्य प्राकृतिक संसाधनों से समृद्ध बताए गए हैं और यह वैश्विक व्यापार के लिए महत्वपूर्ण हैं. चीन लगभग पूरे दक्षिण चीन सागर पर दावा करता है. वियतनाम, फिलीपींस, मलेशिया, ब्रुनेई और ताइवान भी इस क्षेत्र में अपना-अपना दावा करते है.

पेंटागन ने अमेरिकी संसद में चीन पर अपनी वार्षिक रिपोर्ट में कहा. “चीन के नेता अपने उद्देश्यों को आगे बढ़ाने के लिए सशस्त्र संघर्ष की रणनीति का उपयोग करते हैं. चीन संयुक्त राज्य अमेरिका, उसके सहयोगियों और भागीदारों, या इंडो-पैसिफिक क्षेत्र के अन्य लोगों के साथ सशस्त्र संघर्ष भड़काने की दहलीज से नीचे गिरने के लिए अपनी बलपूर्वक गतिविधियों को लगातार जारी रखता है, “

चीन तेजी से इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में सैन्य और आर्थिक प्रभाव का विस्तार कर रहा है, जिससे इस क्षेत्र के विभिन्न देशों और उससे आगे के देशों में चिंता बढ़ रही है.चीन ने इस दशक में परमाणु हथियारों के भंडार को संभावित तौर पर दोगुना करने और ऐसे बैलिस्टिक मिसाइलें तैयार करने की योजना बनाई है जिनकी पहुंच अमेरिका तक हो. ”पेंटागन” ने मंगलवार को जारी एक रिपोर्ट में यह दावा किया.