कराची टेस्ट को पाकिस्तान ने कराया ड्रॉ, बाबर आज़म और मोहम्मद रिजवान रहे हीरो

160
Karachi test draw

हौसले फौलादी हैं तो क्या कुछ नहीं हो सकता. पाकिस्तान ने इस बात को कराची टेस्ट में साबित कर दिया. 506 रनों का विशाल लक्ष्य हासिल करने के बाद पाकिस्तान ने 171.4 ओवर तक बल्लेबाजी कर कराची टेस्ट ड्ऱॉ करा दिया. पाकिस्तान के इस शानदार प्रदर्शन में सबसे बड़ा योगदान कप्तान बाबर आजम का रहा जिन्होंने 425 गेंदों में 196 रन बनाए. मोहम्मद रिजवान ने भी 176 गेंदों में नाबाद 100 रन बनाए. कराची में ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 556 रन बनाए और दूसरी पारी में उसने 2 विकेट पर 97 रन बनाए. जवाब में पाकिस्तान की पहली पारी महज 148 पर खत्म हुई वहीं दूसरी पारी में उसे कुल 506 रनों का विशाल लक्ष्य मिला.

दूसरी ओर ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों के पास पाकिस्तान को समेटने के लिए दो दिन थे लेकिन बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान की बल्लेबाजी ने कंगारुओं को जीत हासिल नहीं करने दी. रावलपिंडी के बाद अब कराची में भी टेस्ट ड्रॉ पर खत्म हुआ. बाबर आजम के अलावा अब्दुल्ला शफीक ने भी पाकिस्तान की हार टाली. शफीक ने 305 गेंदों में 96 रन बनाए. उन्होंने बाबर आजम के साथ मिलकर 524 गेंदों में 228 रनों की साझेदारी की. अब्दुल्लाह शफीक के बाद रिजवान ने बाबर के साथ मिलकर 248 गेंदों में 115 रन जोड़े. जिसमें रिजवान ने 66 और बाबर आजम ने 46 रनों का योगदान दिया.

कराची टेस्ट के पांचवें दिन क्या हुआ?
बाबर आजम और अब्दुल्लाह शफीक की जोड़ी कराची टेस्ट के पांचवें दिन भी काफी मजबूत दिखी. दोनों ने पाकिस्तान का स्कोर पहले 200 के पार पहुंचाया और फिर 422 गेंदों में दोनों के बीच 200 रनों की साझेदारी हुई. ड्रिंक्स तक पाकिस्तान का एक भी विकेट नहीं गिरा लेकिन लंच से पहले ऑस्ट्रेलियाई कप्तान पैट कमिंस ने अब्दुल्लाह शफीक को आउट कर ऑस्ट्रेलिया को बड़ी कामयाबी दिलाई. कमिंस ने इसके बाद फवाद आलम को भी 9 रन के निजी स्कोर पर निपटा दिया. ऐसा लगा कि अब ऑस्ट्रेलियाई टीम पाकिस्तान को ऑल आउट कर देगी लेकिन उनके सामने रिजवान और बाबर की जोड़ी खड़ी हो गई.

रिजवान ने अपने ही अंदाज में बल्लेबाजी करते हुए अच्छे शॉट्स खेले. दोनों के बीच 118 गेंदों में अर्धशतकीय साझेदारी हुई और रिजवान ने 106 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया. बाबर ने 311 गेंदों में अपने 150 रन पूरे किए. दोनों खिलाड़ियों ने चाय तक एक भी विकेट नहीं गिरने दिया और उस वक्त पाकिस्तान का स्कोर 4 विकेट पर 310 रन था. दोनों बल्लेबाजों ने टी ब्रेक के बाद भी अच्छी बल्लेबाजी जारी रखी और 209 गेंदों में बाबर-रिजवान के बीच शतकीय साझेदारी हुई. इस बीच बाबर आजम अपने दोहरे शतक की ओर बढ़ रहे थे लेकिन 196 के निजी स्कोर पर वो नाथन लायन का शिकार हो गए. हालांकि इस दौरान वो चौथी पारी में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले कप्तान भी बन गए.

रिजवान ने संभाले रखा मोर्चा
बाबर जब आउट हुए उस वक्त 12 ओवर बचे हुए थे. बाबर के आउट होने के बाद फहीम अशरफ पहली गेंद पर लायन का शिकार हो गए. साजिद खान भी 9 रन पर लायन का शिकार बने. लेकिन रिजवान डटे रहे. जब दिन के तीन ओवर बचे थे तो 91 के निजी स्कोर पर उस्मान ख्वाजा ने रिजवान का कैच छोड़ दिया. रिजवान ने इस जीवनदान का फायदा उठाते हुए अपना शतक पूरा किया और अंत में ये मैच ड्रॉ पर समाप्त हुआ.