SCO बैठक में भारत आने के पीछे क्या है पाकिस्तानी एजेंडा? बिलावल भुट्टो बोले..

103

पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी ने कहा है कि भारत में शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में उनका भारत दौरा एससीओ के चार्टर के प्रति उनके देश की प्रतिबद्धता को दर्शाता है. भुट्टो ने कहा कि इस दौरे को द्विपक्षीय संबंधों के संदर्भ में नहीं देखा जाना चाहिए. दुनिया न्यूज पर गुरुवार को प्रसारित एक कार्यक्रम के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वह अगले महीने गोवा में होने वाली विदेश मंत्रियों की बैठक में पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व करेंगे. भुट्टो जरदारी ने कहा, “हम एससीओ चार्टर के लिए प्रतिबद्ध हैं और इस यात्रा को द्विपक्षीय यात्रा के रूप में नहीं बल्कि एससीओ के संदर्भ में देखा जाना चाहिए.”

निमंत्रण पर एससीओ-सीएफएम बैठक में भाग ले रहे

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि भुट्टो जरदारी गोवा में 4-5 मई को होने वाली एससीओ विदेश मंत्रियों (सीएफएम) की बैठक में पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे. पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मुमताज ज़हरा बलूच ने गुरुवार को एक साप्ताहिक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि भुट्टो जरदारी भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर के निमंत्रण पर एससीओ-सीएफएम बैठक में भाग ले रहे हैं. प्रवक्ता ने कहा, “बैठक में हमारी भागीदारी एससीओ चार्टर और प्रक्रिया के प्रति पाकिस्तान की निरंतर प्रतिबद्धता और पाकिस्तान द्वारा अपनी विदेश नीति की प्राथमिकताओं में क्षेत्र को दिए जाने वाले महत्व को दर्शाती है.”