ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन कोरोना वायरस के नए रूप के खिलाफ भी असरदार

316

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित और एस्ट्राजेनेका द्वारा निर्मित कोरोना वैक्सीन ब्रिटेन में सामने आए वायरस के नए प्रकार के खिलाफ भी प्रभावशाली दिखा है। यह जानकारी अनुसंधानकर्ताओं की ओर से किए जा रहे अध्ययन से सामने आई है।

सीएचएडीओएक्स1-एनसीओवी19 टीका विकसित करने वाले विज्ञानियों ने पाया है कि यह बीमारी के कम से कम एक नए प्रकार के खिलाफ प्रभावी है, जिसे बी.1.1.7 ‘केंट’ कहा जाता है। इस नए प्रकार का पता पहली बार पिछले साल के अंत में दक्षिण-पूर्व ब्रिटेन में चला था।

ऑक्सफोर्ड टीके के परीक्षण संबंधी मुख्य जांचकर्ता एवं बच्चों के संक्रमण एवं प्रतिरक्षण के प्रोफेसर एंड्रयू पोलार्ड ने कहा, ब्रिटेन में सीएचएडीओएक्स1 टीके के हमारे परीक्षण डाटा से संकेत मिलता है कि यह न केवल मूल वायरस से बचाता है, बल्कि इसके नए स्वरूप के खिलाफ भी कारगर है। हालांकि, एस्ट्राजेनेका ने कहा कि यह अभी तक पूरी तरह से निर्धारित किया जाना बाकी है कि क्या यह टीका दक्षिण अफ्रीका में सामने आए अत्यधिक संक्रामक कोरोना वायरस से भी बचाता है।

दरअसल प्रकाशन से पूर्व अध्ययन के एक छोटे हिस्से के हवाले से कंपनी ने विश्वास जताया है कि कोरोना वायरस के खिलाफ यह वैक्सीन गंभीर मामलों से सुरक्षा प्रदान करेगी, क्योंकि इसने अन्य कोरोना वायरस के टीकों के समान ही बेअसर करने वाले एंटीबॉडी बनाए हैं।