अब ट्रेन में कंबल के लिए यात्रियों को करने पड़ेंगे पैसे खर्च-मुसाफिरों के लिए तीन किट मौजूद

176

कोरोना महामारी की शुरुआत से ही ट्रेन में बेडशीट और कंबल देने की सविधाएं बंद कर दी गई थी. लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रेलवे की तरफ से यह फैसला लिया गया था. ताकि महामारी को बढ़ने से रोका जा सके. लेकिन यहां से अब सर्दियां बेहद करीब है. ऐसे में अगर आप भी ट्रेन में यात्रा करने वाले हैं तो कंबल और बेडशीट के लिए आपको अपनी जेब ढीली करनी पड़ेगी. दरअसल, ठंड में यात्रियों को परेशानी से बचाने के लिए, दिल्ली और कई रेल मंडलों ने स्टेशन पर ही डिस्पोजल बेड शीट, कंबल जैसी जरूरत की चीजें मुहैया करवाने वाली दुकानों को शुरू किया गया है. इस दौरान यात्रियों के लिए तीन तरह की किट तैयार है.

तीन किट में क्या-क्या मिलेगा ?

  1. पहली किट- इसमें यात्रियों को 300 रुपये देने होंगे.
    इसमें गैर बुना हुआ कंबल, बेड शीट, तकिया-कवर, बैग, टूथपेस्ट, तेल, कंघी, सैनिटाइजर की सैशे, पेपर सोप, टिश्यूपेपर मिलेगा.
  2. दूसरी किट- इसमें यात्रियों को 150 रुपये देने पड़ेंगे.
    इस किट में केवल कंबल ही मिलेगा.
  3. तीसरी किट- इसमें यात्रियों को 30 रुपये देने हैं.
    इसमें टूथपेस्ट, ब्रश, बालों का तेल, कंघी, सैनिटाइजर, पेपर-सोप और टिश्यू मिलेंगे.

57 ट्रेनों में ही कंबल खरीद सकेंगे
वहीं, रेलवे अफसरों के मुताबिक अभी तक ट्रेनों में कंबल और बेडशीट की सुविधा शुरू करने का कोई प्रस्ताव नहीं है. लेकिन, कोविड की स्थिति का रिव्यू होने के बाद ही इसपर कोई भी फैसला लिया जा सकेगा. लेकिन यात्रियों को ठंड की मार से बचाने के लिए फिलहाल स्टेशनों पर डिस्पोजल कंबल, बेडशीट आदि की दुकानें खोलने की अनुमति दे दी गई है. दरअसल, दिल्ली मंडल की 57 ट्रेनों में डिमांड पर ये सुविधा दी जा रही है. यानि की यात्री अपनी जरूरत के अनुसार राजधानी जैसे ट्रेनों में भी इसे खरीद सकता है.

कोविड के दौरान बंद की थी सुविधा
कोरोना महामारी में ज्यादातर ट्रेनें बंद ही थी. और हर रोज इन ट्रेनों को सेफ्टी के मद्देनजर सैनिटाइज किया जा रहा था. उस दौरान भी जब लोगों को एक जगह से दूसरी जगह भेजा गया. तो कोरोना की गाइडलाइंस को पूरी तरह से फॉलो किया गया. दरअसल, त्योहारी सीजन में ज्यादा से ज्यादा लोग अपने घर जाते हैं. ऐसे में अगर आपको बेड शीट, कंबल या फिर किसी भी तरह की चीजों की जरूरत है. तो आपको अपनी जेब ढीली करनी पड़ेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here