चीन से दोस्ती बढ़ाते ही नेपाल के भी बुरे दिन शुरू..

27
nepal
nepal

पाकिस्तान और चीन की दोस्ती दुनिया भर में कुख्यात है चीन नेपाल से भी करीबी बढ़ा रहा है हाल ही में चीन की मदद से नेपाल में इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन किया गया नेपाल और चीन के बीच बढ़ती दोस्ती से डर है कि कहीं नेपाल की भी हालत पाकिस्तान और श्रीलंका जैसी ना हो जाए चीन के करीब आते ही नेपाल के भी बुरे दिन शुरू हो गए हैं भारत के पड़ोसी नेपाल पर अब फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की ग्रे लिस्ट में जाने का खतरा मंडराने लगा है मालूम हो कि पाकिस्तान भी कई सालों तक एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में रहकर हाल ही में बाहर आया है द काठमांडू पोस्ट में पृथ्वी ने एक आर्टिकल लिखकर आशंका जताई है कि नेपाल पर एफएटीएफ की मार का खतरा मंडरा रहा है क्योंकि इसके आतंकवाद के वित्तपोषण और मनी लॉन्ड्रिंग से संबंधित कानूनों में कई कमियां है

कई कमियों को दूर करने के लिए संघर्ष कर रहा

दरअसल नेपाल एंटी मनी लांड्रिंग और आतंकवादी वित्तपोषण से संबंधित पेरिस स्थित नियामक निकाय एसएटीएफ के मानकों का पालन करने के लिए कई कमियों को दूर करने के लिए संघर्ष कर रहा है कम से कम 15 कमजोर कानूनों की पहचान की गई है नेपाल की आर्थिक स्थिति वैसे ही बहुत अच्छी नहीं है और कई चीजों के लिए विदेशी सहायता पर निर्भर रहता है यदि ग्रे लिस्ट में डाला जाता है तो नेपाल की अर्थव्यवस्था के लिए या काफी हानिकारक रहने वाला है रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि हाल ही में एफएटीएफ जैसी रीजनल एंटी मनी लांड्रिंग एशिया पेसिफिक ग्रुप के डेलिगेशन ने नेपाल का दौरा किया था और 2 हफ्तों तक नेपाल के मनी लॉन्ड्रिंग और चरस फाइनेंस इन पर रिस्पांस की जांच की थी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here