Tokyo Olympics: सीएम शिवराज बोले भारतीय हॉकी टीम ने किया कमाल, एमपी के विवेक और नीलकांता को 1-1 करोड़ प्रदान करेगी सरकार

290

भोपाल. टोक्यो ओलंपिक में भारतीय हॉकी टीम ने इतिहास रच दिया.भारत ने जर्मनी को 5-4 से हराकर कांस्य पदक जीत लिया. इस जीत में मध्य प्रदेश के भी दो खिलाड़ियों विवेक सागर और नीलकांता शर्मा ने भी कमाल किया है. दोनों खिलाड़ियों को मध्य प्रदेश सरकार 1-1 करोड़ का इनाम देगी. प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को मैच के बाद इसकी घोषणा की.

सीएम शिवराज ने ट्वीट किया- ‘भारतीय पुरुष #Hockey टीम ने #Tokyo2020 में सर्वश्रेष्ठ टीमों को हराया है. इटारसी के लाल विवेक सागर टीम का हिस्सा हैं, नीलकांता शर्मा ने मध्य प्रदेश हॉकी एकेडमी से ट्रेनिंग ली है. इन दोनों खिलाड़ियों को एक-एक करोड़ रुपए की सम्मान निधि मध्य प्रदेश सरकार प्रदान करेगी.’

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलंपिक्स में इतिहास रच दिया है. टीम ने ब्रॉन्ज मेडल के मुकाबले में जर्मनी को 5-4 से हराया. हॉकी टीम ने 1980 के बाद मेडल जीता. यह ओवरऑल ओलंपिक इतिहास में हाॅकी का हमारा 12वां मेडल है. मैच में एक समय भारतीय टीम 1-3 से पीछे थी. इसके बाद टीम ने शानदार वापसी करते हुए मुकाबला जीत लिया. महिला हॉकी टीम भी मेडल की रेस में है. उसे भी ब्रॉन्ज का मुकाबला शुक्रवार को खेलना है.

मुकाबले में जर्मनी ने बेहद आक्रामक शुरुआत की. दूसरे मिनट में ही जर्मनी के उरुज ने गोल कर टीम को 1-0 की बढ़त दिलाई. पहले क्वार्टर तक जर्मनी की टीम 1-0 से आगे थी. 17वें मिनट में सिमरनजीत सिंह ने गोल करके स्काेर 1-1 से बराबर कर दिया. इसके बाद जर्मनी की ओर से 24वें मिनट में निकोलस वेलन ने और 25वें मिनट में बेनिडिट फुर्क ने गोल करके टीम को 3-1 की बढ़त दिलाई.

दो गोल से पिछड़ने के बाद भारतीय टीम ने अच्छी वापसी की. 27वें मिनट में हार्दिक सिंह ने काॅर्नर रूकने के बाद शानदार गोल किया. फिर 29वें मिनट में हरमनप्रीत ने गोल करके स्कोर 3-3 से बराबर कर दिया. दूसरे क्वार्टर में कुल 5 गोल हुए. तीसरे क्वार्टर में भी भारतीय टीम ने हमले जारी रखे. 31वें मिनट में पेनल्टी स्ट्रोक पर रूपिंदर पाल सिंह ने गोल करके स्कोर 4-3 कर दिया. 34वें मिनट में सिमरनजीत ने अपना दूसरा गोल कर स्कोर 5-3 कर दिया. तीसरे क्वार्टर के बाद भारत के पास 5-3 की बढ़त रही.

मैच के अंतिम क्वार्टर में भारत और जर्मनी दोनों ने हमले किए. 48वें मिनट में लुका विनफेडर ने गोल करके स्कोर 4-5 कर दिया. हालांकि इसके बाद दोनों ही टीमें गोल नहीं कर सकीं और भारत ने मुकाबला 5-4 से अपने नाम कर लिया. जर्मनी की टीम पिछले 4 ओलंपिक से मेडल जीत रही थी.

भारतीय हाॅकी टीम ने इससे पहले अंतिम बार 1980 में मेडल जीता था. तब टीम को गोल्ड मेडल मिला था. ओलंपिक के इतिहास की बात की जाए तो भारत ने 12वां मेडल जीता. इससे पहले टीम ने 1928, 1932, 1936, 1948, 1952, 1956, 1964 और 1980 में गोल्ड मेडल जीता. 1960 में सिल्वर जबकि 1968 और 1972 में ब्रॉन्ज मेडल मिला. 1964 के ओलंपिक भी टोक्यो में हुए थे और भारतीय टीम ने गोल्ड जीता था. इस बार भी टोक्यो टीम के लिए बड़ी खुशी लेकर आया.