भारत में कोरोना: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताए हालात, कोविड-19 संक्रमण दर वर्तमान में 24 राज्यों में 15 फीसदी से अधिक

    251

    केंद्र सरकार ने कहा है कि बिहार, हरियाणा, पश्चिम बंगाल सहित 9 राज्यों में कोरोना के मामले चिंताजनक गति से बढ़ रहे है. केंद्र सरकार में अतिरिक्त सचिव (स्वास्थ्य) आरती आहूजा ने कहा कि कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, बिहार, हरियाणा, ओडिशा और उत्तराखंड में कोरोना के केस तेज गति से बढ़ रहे हैं. उन्‍होंने बताया कि दूसरी ओर कुछ राज्‍यों/यूटी में कोरोना का ट्रेंड नीचे आया है, इसमें पंजाब, जम्‍मू-कश्‍मीर (यूपी), असम, हिमाचल प्रदेश, पुदुच्‍चेरी, मेघालय, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश और नागालैंड हैं.

    इसके साथ ही उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, राजस्थान, छत्तीसगढ़, गुजरात, मध्यप्रदेश, तेलंगाना और झारखंड ऐसे राज्य व केंद्र शासित प्रदेश हैं जहां पहले मामले बढ़ रहे थे लेकिन अब धीरे-धीरे इनमें कमी आ रही है। आहूजा ने कहा कि कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, बिहार, हरियाणा, ओडिशा और उत्तराखंड में मामले बढ़ रहे हैं। 

    आहूजा ने कहा कि इसके अलावा पंजाब, जम्मू-कश्मीर, असम, हिमाचल प्रदेश, पुडुचेरी, मेघालय, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश और नगालैंड में कोरोना संक्रमण के दैनिक नए मामलों में तेजी देखने को मिली है। अतिरिक्त स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि अभी तक 18 से 44 आयुवर्ग में आने वाले 11.81 लाख लोगों को वैक्सीन की पहली खुराग लगाई जा चुकी है। कुल मिलाकर अब तक सभी श्रेणियों में टीके की 16.50 करोड़ खुराकें लगाई जा चुकी हैं।

    सख्त मानक अपनाएं तो बच सकते हैं तीसरी लहर से
    केंद्र सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार के विजयराघवन ने कहा कि अगर हम सख्त मानक अपनाते हैं तो हो सकता है कि कोरोना की तीसरी लहर सभी जगहों पर न आए या हो सकता है कि कहीं भी न आए। उन्होंने कहा कि यह इस बात पर निर्भर करता है कि स्थानीय स्तर पर, राज्यों में, जिलों में और शहरों में किस तरह दिशानिर्देशों को प्रभावी रूप से लागू किया जाता है।