नंदीग्राम: ममता बनर्जी ने खेला धर्म का कार्ड, मंच से चंडीपाठ कर फूंका बिगुल, शिवरात्रि पर जारी करेंगी पार्टी का मैनिफेस्टो

461

पश्चिम बंगाल में नंदीग्राम एक बार फिर रण बनता जा रहा है। दरअसल, राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस बार नंदीग्राम से चुनाव लड़ने का एलान किया है। इसके मद्देनजर वह आज (9 मार्च) नंदीग्राम पहुंच गई हैं और कल यानी 10 मार्च को अपना नामांकन दाखिल करेंगी। बता दें कि नंदीग्राम में ममता बनर्जी का सीधा मुकाबला भाजपा के सुवेंदु अधिकारी से है, जिन्होंने मुख्यमंत्री को 50 हजार वोटों से हराने का दावा किया है। गौरतलब है कि ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में मंच पर चंडी पाठ पढ़ा। इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं अपना नाम भूल सकती हूं, लेकिन नंदीग्राम नहीं। इस दौरान उन्होंने शिवरात्रि पर पार्टी का मैनिफेस्टो जारी करने का एलान किया। 

जानकारी के मुताबिक, ममता बनर्जी अगले तीन दिन नंदीग्राम में ही रहेंगी। इस दौरान वह आम जनता से संपर्क करेंगी और उन्हें टीएमसी सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यों की जानकारी देंगी। साथ ही, लोगों को तृणमूल कांग्रेस के पक्ष में मोड़ने की कोशिश करेंगी। 

नंदीग्राम में अपने भाषण के दौरान ममता बनर्जी ने कहा कि कोई-कोई बंटवारा करने की कोशिश करेगा, लेकिन ऐसे लोगों की बात मत सुनना। मैं अपना नाम भूल सकती हूं, लेकिन नंदीग्राम नहीं। ममता बनर्जी बोलीं कि मैं गांव की बेटी हूं। नंदीग्राम सीट खाली हुई, इसलिए यहां से लड़ रही हूं। मैं सिंगूर और नंदीग्राम को साथ लाई हूं। दीदी ने कहा कि आपको याद रखना होगा कि मैं किस तरह यहां पहुंची हूं।