महाराष्ट्र में गणेशोत्सव और दही हंडी पर केंद्र ने जारी किये कड़े प्रतिबंध, पत्र भेजकर उद्धव सरकार को दिए निर्देश

261

दही हंडी और गणेश चतुर्थी को ध्यान मे रखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने महाराष्ट्र के मुख्यसचिव को पत्र लिख कर कोरोना से जुड़े अहम निर्देश दिए हैं. पत्र में स्पष्ट रूप से राज्य सरकार से कहा गया है कि आगामी त्योहारों में उमड़ने वाली भीड़ को टालने के लिए प्रतिबंध लगाएं. पत्र में खास तौर से दही हंडी और गणेशोत्सव का जिक्र किया गया है.

पर्व-त्योहारों में होने वाली भीड़ कोरोना संक्रमण के लिए सुपर स्प्रेडर के तौर पर काम करती है. अनुभवों से यह साबित हुआ है. इसीलिए केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने राज्य के मुख्य सचिव सीताराम कुंटे को एक पत्र लिखा है और कड़े प्रतिबंध लगाने की सलाह दी है. मिसाल के तौर पर केरल में बकरीद और ओणम के बाद कोरोना संक्रमण में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई. ऐसे में सावधानी बरतते हुए महाराष्ट्र सरकार को भी प्रतिबंधों को कड़े करने के सुझाव दिए गए हैं.

बता दें कि राज्य में दही हंडी पर पहले ही पाबंदी लगा दी गई है और अब गणेशोत्सव पर प्रतिबंधों की आशंकाएं बढ़ गई हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि पिछली बार भी गणेशोत्सव के बाद कोरोना संक्रमण में अचानक बढ़ोत्तरी देखी गई थी. इसलिए कोरोना से बचाव करना है तो पर्व-त्योहारों में संयम बरतना जरूरी है. यही वजह है कि केंद्र सरकार ने भी राज्य सरकार को स्थानीय स्तर पर प्रतिबंधों को कड़े किए जाने की सलाह दी है.

इस बीच कोरोना संक्रमण रोकने के लिए महाराष्ट्र सरकार द्वारा उठाए गए योजनाओं और कदमों की केंद्र सरकार की ओर से तारीफ़ की गई है. राज्य में नए कोरोना संक्रमितों की संख्या में पिछले महीने से कमी दिखाई दे रही है. लेकिन कुछ जिलों में खतरा बरकरार है. इन चुनिंदा जिलों में कोरोना संक्रमितों की संख्या और पॉजिटिविटी रेट में बढ़ोत्तरी दिखाई दे रही है. इसलिए एक बार फिर संक्रमण बढ़ने की आशंका है. इसलिए आगामी गणेशोत्सव में केंद्र सरकार द्वारा भेजे गए पत्र को गंभीरता से लिए जाने और राज्य सरकार द्वारा कड़े प्रतिबंधों को लाए जाने की पूरी संभावना  है.