माफिया अतीक अहमद के दफ्तर में पड़ा छापा, कैश व असलहों का जखीरा हुआ बरामद..

171

यूपी के प्रयागराज उमेश पाल हत्याकांड में उत्तर प्रदेश पुलिस लकीर की फकीर बनी हुई है। पुलिस अतीक अहमद के करीबियों पर लगातार छापेमारी के साथ कार्रवाई कर रही है। हत्याकांड में शामिल लोगों की तलाश जारी है, वहीं एनकाउंटर में कुछ पकड़े गए हैं, तो दो बदमाशों की जान भी गई है। मजे की बात यह है कि इस सबके बीच उमेश पाल मर्डर केस का मुख्य आरोपी अतीक अहमद का बेटा असद अहमद और सजिश करता उसकी पत्नी शाइस्ता परवीन पुलिस की पकड़ से दूर है। आलम यह है कि पुलिस के पहुंचने से पहले अतीक अहमद का बेटा असद अपना ठिकाना बदल लेता है। इससे पुलिस की भूमिका पर जहां सवाल उठ रहा है, वहीं अतीक अहमद के करीबियों पर कार्रवाई करने वाली यूपी पुलिस मंगलवार को उसके दफ्तर पर दबिश देने की हिम्मत जुटा सकी। इस दौरान पुलिस को अतीक अहमद के दफ्तर से करीब 70 लाख रुपए व असलहों का जखीरा बरामद हुआ है।

पुलिस को यहां से वह पिस्टल भी मिला

दरअसल जानकारी के अनुसार पुलिस ने अतीक अहमद के दफ्तर पर पूरी तैयारी के साथ धावा बोला, जिसमें उन्हें भारी मात्रा में असलहा, कैश और अन्य सामान बरामद हुआ है। खबर है कि पुलिस को यहां से वह पिस्टल भी मिला है, जिसका इस्तेमाल उमेश पाल मर्डर केस में किया गया था। छापेमारी में 45 बोर की अमेरिका मेड कोल्ड पिस्तौल भी मिलने की बात सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि उमेश पाल की इसी पिस्तौल से हत्या की गई थी। हालांकि इसका आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। इसका सही पता बैलिस्टिग जांच के बाद पता चलेगा कि क्या इस हथियार का शूट आउट में इस्तेमाल किया गया था या नहीं। इस दौरान पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए लोग अतीक अहमद के बेटे असद अहमद के दोस्त हैं। उमेश पाल की हत्याकांड में ये सभी लोग शामिल थे।

पुलिस से मिली शुरुआती जानकारी के मुताबिक प्रयागराज के करबला स्थित अतीक अहमद के ऑफिस पर पुलिस ने दबिश दी तो यहां करीब 70 लाख रुपए बरामद हुए। बड़ी मात्रा में रुपये की खेप मिलने पर पुलिस ने नोट गिनने के लिए मौके पर मशीन भी मंगवाई है। इसी जगह से पुलिस के हाथ 10 हथियार लगे हैं। इन हथियारों में पिस्टल और देसी हथियार भी शामिल हैं।