MP Flood: चारों ओर बर्बादी का मंजर, लोग सिर पर छत के लिए परेशान, प्रशासन ने किया मदद का दावा

1415

मध्य प्रदेश के दतिया जिले में उफनती सिंध नदी का पानी उतरने लगा है. नदी का पानी भले ही उतर रहा हो, लेकिन अब उस जगह बर्बादी के निशान दिखाई देने लगे हैं. लोग सिर पर छत के लिए परेशान हो रहे. उनका खाना-पीना, मवेशी सब बह गए हैं. हालांकि, प्रशासन मदद का दावा जरूर कर रहा है, लेकिन बाढ़ पीड़ितों को मदद की दरकार लगातार बनी हुई है.

मध्य प्रदेश के दतिया जिले की सेवढ़ा विधानसभा क्षेत्र का गुरुवार रात जायजा लिया. यहां आकर पता चला कि सिंध नदी का रौद्र रूप थोड़ा बदल गया है. नदी का पानी उतर रहा है. पानी उतरने के बाद यहां चारों तरफ बर्बादी का ही मंजर है. यहां पाली और सुनारी गांवों के ग्रामीणों की छत छिन गई. लोगों को राहत कैम्प, सरकारी भवन और टेंटों में भेज दिया गया है. इन राहत कैम्पों में गर्भवती महिलाएं और वृद्ध भी हैं. इनक मेडिकल चैकअप की परेशानी भी खड़ी हो गई है. ग्रामीणों का दर्द यह भी है कि पानी में उनका खाने-पीने और जरूरत का सामान भी बह गया.

सिंध नदी का जलस्तर नीचे जाने के बाद रतनगढ़ के पुल के अवशेष की तस्वीरें भी सामने आईं हैं. पूरा पुल पानी के सैलाब में बह गया. चिंताजनक बात ये है कि पुल के साथ-साथ नए बन रहे पुल के पिलर भी क्षतिग्रस्त हो गए हैं. पुल के पास बना आपदा प्रबंधन टीम का ऑफिस भी बह गया है. गौरतलब है कि ग्वालियर चंबल में आसमान से बरस रही बारिश ने तांडव मचा दिया है. बाढ़  और बारिश के कारण ना सिर्फ मकान-दुकान, खेत-खलिहान, सड़क तबाह हो गया बल्कि बांधों ने तो कहर बरपा दिया. बांध के गेट खोलने से सिंधु, सीप नदी ने तबाही मचा दी और करोड़ों की लागत से तैयार हुए 6 पुल ताश के पत्तों की तरह बह गए. इनमें से चार पुल ऐसे थे जो 10 से 12 साल पहले ही  शिवराज सरकार के दौरान  बनाए गए थे. पुल बारिश और बाढ़ का बहाव नहीं झेल पाए.

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पूरे मामले में उच्च स्तरीय जांच और जवाबदेही तय करने की मांग की है. सिंधु नदी के तेज पानी में रतनगढ़ वाली माता मंदिर का पुल,  दतिया में सिंध नदी पर बना  बड़ा पुल बह गया.  जानकारी के मुताबिक इन 6 पुलों के निर्माण में 35 से ₹40 लाख की लागत आई थी. हालांकि विभागीय सूत्रों का कहना है अभी भी पानी का बहाव खासा तेज है. जब पानी उतरेगा तो पुलों को पहुंचे नुकसान का आंकलन किया जाएगा. इस बात की भी जांच होगी कि क्या पुल का निर्माण करते वक्त मानकों का ध्यान रखा गया या नहीं.