पीएम मोदी के जन्मदिन के मौके पर हुआ विरोध प्रदर्शन, शिवसेना ने डिग्रियां जलाकर किया विरोध, कहा- रोजगार दो

393

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में गुरुवार को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर शिवसेना ने रोजगार न मिलने पर और बेरोजगारी बढ़ने पर छाती पीटकर विरोध दर्ज कराया. इसके साथ ही साथ पढ़ाई पूरी कर लेने के बाद मिलने वाली डिग्रियों को भी शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन के दौरान जलाकर फूंक दिया.

शिवसेना के प्रदेश अध्यक्ष अनिल सिंह ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना है कि चाय बनाकर और पकौड़े को तलकर रोजगार को हासिल किया जाए. जबकि लाखों नौजवान युवाओं ने रोजगार पाने के लिए जो पढ़ाई करने में लाखों रुपए खर्च किए हैं और डिग्रियां प्राप्त की हैं उसका क्या?

अनिल सिंह ने आगे कहा कि मुझे लगता है आज हमारी वो डिग्रियां बेकार हो गईं. व्यथित मन से आज मुझे कहना पड़ रहा है कि मैंने जो स्नातक की डिग्रियां पढ़ाई करके प्राप्त की थीं, चाहे वह बीपीएड, एमपीएड की हों या फिर खेल में प्राप्त तमाम डिग्रियां हों, वह सब बेकार सिद्ध हो गईं. आज मैंने उन सभी डिग्रियों को आहुति दे कर जला दिया. और साथ ही साथ सभी शिवसैनिकों ने अपनी छाती पीट कर भी रोजगार न मिलने के विरोध में प्रदर्शन किया.

शिव सेना प्रदेश अध्यक्ष ने भारत सरकार से मांग की है कि अगर रोजगार के अवसर नहीं मिले और बेरोजगारी इसी तरह बढ़ती रही तो आने वाले समय में स्थिति और भी खराब और भयावह हो जाएगी. जिसके कारण नौजवान इसी तरह सड़क पर उतर कर वह विरोध प्रदर्शन करेंगे और सरकार से नाराजगी जताएंगे. प्रदर्शन के दौरान शिवसेना ने भारत माता की जय, वंदे मातरम्, हम को रोजगार दो, और चौकीदार हाय-हाय जैसे नारे भी लगाए.