लखीमपुर खीरी हिंसा: नामजद रिपोर्ट दर्ज होने के तीन दिन बाद भी कोई गिरफ्तारी नहीं, राकेश टिकैत ने सरकार को दिया है हफ्ते भर का समय

    237
    Rakesh-Tikait

    लखीमपुर खीरी में किसानों के प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा को आज तीन दिन हो गए हैं. विपक्ष लगातार इस मामले को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार पर हमलावर है. हिंसा के बाद किसानों और प्रशासन के बीच चार मुद्दों पर समझौता हुआ था. इस समझौते की अगुवाई किसान नेता राकेश टिकैत ने की थी. इन चार मुद्दों में एक बड़ा मुद्दा था कि आठ दिन के भीतर हिंसा में शामिल लोगों को गिरफ्तार करना भी था. घटना के तीन दिन बीत गए हैं लेकिन इस मामले में अभी तक एक भी गिरफ्तारी नहीं हुई है.

    इससे पहले केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा के खिलाफ केस दर्ज किया गया था. राकेश टिकैत ने आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी और अजय मिश्रा की मंत्री पद से बर्खास्तगी की मांग की थी. किसानों और प्रशासन के बीच हुए समझौते के मुताबिक हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज इस मामले की जांच करेंगे. पीड़ित परिवारों को 45-45 लाख मुआवजा और आश्रितों को सरकारी नौकरी देने का फैसला हुआ था. इसके साथ ही घायलों को 10 लाख रुपये की मदद का भी एलान किया गया था. m,