ये किसी पद नहीं बल्कि देश के लिए, जो मायने रखता है : कपिल सिब्बल

234

कांग्रेस पार्टी में शीर्ष नेतृत्व को लेकर मची रार अभी तक जारी है. सोमवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक काफी हंगामेदार रही. जिन नेताओं ने चिट्ठी लिखी थी, उनमें से ही एक कपिल सिब्बल का सोमवार का ट्वीट काफी चर्चा में रहा. अब आज मंगलवार को भी उन्होंने एक और ट्वीट किया. कपिल सिब्बल ने लिखा कि ये सब किसी पद के लिए नहीं है, ये देश के लिए है, जो सबसे अधिक मायने रखता है. बता दें कि सोमवार की बैठक में कपिल सिब्बल, गुलाम नबी आजाद जैसे नेताओं की नाराजगी सामने आई थी. दोनों नेता उन 23 नेताओं में शामिल थे, जिन्होंने कांग्रेस नेतृत्व को लेकर चिट्ठी लिखी थी.

करीब सात घंटे तक चली कांग्रेस की वर्चुअल मीटिंग काफी हंगामेदार रही. कुछ नेताओं ने नाराजगी जाहिर की, तो वहीं गांधी परिवार समेत शीर्ष नेता चिट्ठी लिखने वालों पर जमकर बरसे. सोमवार को बैठक में सोनिया गांधी ने कांग्रेस पार्टी के अंतरिम अध्यक्ष के पद से इस्तीफा देने की बात कही, लेकिन पार्टी में कई बड़े नेताओं ने उन्हें ऐसा ना करने को कहा. अंत में ये तय हुआ कि सोनिया गांधी ही अभी अध्यक्ष पद पर बनी रहेंगी. पार्टी की ओर से अगले 6 महीने में नए अध्यक्ष की तलाश पूरी की जाएगी, कांग्रेस के अधिवेशन में इसका ऐलान हो सकता है.

गौरतलब है कि सोमवार की बैठक में ये बात सामने आई थी कि राहुल गांधी ने चिट्ठी लिखने वाले नेताओं पर बीजेपी का साथ देने का आरोप लगाया, जिसके बाद गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल ने ट्विटर पर अपनी नाराजगी व्यक्त की. लेकिन दोनों ने ही बाद में सफाई देते हुए कहा कि राहुल गांधी ने इस तरह का बयान नहीं दिया, उन्होंने किसी ओर नेता के लिए बात कही थी. बैठक में अहमद पटेल, केसी वेणुगोपाल, अंबिका सोनी समेत कई नेताओं ने चिट्ठी लिखने वाले नेताओं पर एक्शन लेने की बात कही.