कंगना रनौत की बहन रंगोली ने तापसी पन्नू और स्वरा भास्कर को बताया बी ग्रेड एक्ट्रेस – सोशल मीडिया पर सुनाई खरी खोटी

502

बॉम्बे हाईकोर्ट से कंगना रनौत को बड़ी राहत मिलने के बाद रंगोली चंदेल ने एक पोस्ट किया है। रंगोली का ये पोस्ट इस वजह से वायरल हो रहा है क्योंकि इस पोस्ट के जरिए रंगोली ने तापसी पन्नू और स्वरा भास्कर पर निशाना साधा है जो कंगना के ऑफिस पर की गई बीएमसी की कार्रवाई को सही ठहरा रही थीं।

रंगोली ने इंस्टाग्राम पर कैप्शन के साथ पोस्ट में लिखा- ‘ये एक महत्वपूर्ण घोषणा है, कुछ लोगों ने गलत जानकारी फैलाने की कोशिश की। पालीहिल इलाके में स्थित हमारी संपत्ति को गैर कानूनी बताया और उसे गिराने की कोशिश की। कृपया ऐसे लोगों से सावधान रहें…मैं आप लोगों को ऐसे बेशर्म लोगों के बारे में भविष्य में भी जानकारी देती रहूंगी।’

इसके साथ ही रंगोली ने इस कैप्शन के साथ पोस्ट में लिखा- ‘एक बात जो मैं नजरअंदाज नहीं कर सकती और कहना चाहती हूं – जब हम एक कठिन समय से गुजर रहे थे तो स्वरा और तापसी जैसे बी ग्रेड अभिनेत्रियों को देखकर गहरा दुख हुआ जो कंगना के ऑफिस पर बीएमसी द्वारा की गई कार्रवाई पर हंस रहे थे। यहां तक कि उन्होंने बीएमसी के इस कदम को कानूनी भी ठहराया।’

रंगोली ने आगे लिखा- ‘मैं वास्तव में इन्हें अदालत में घसीटना चाहती हूं , लेकिन कंगना उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करना चाहतीं। लोग इन कुंठित, ईर्ष्यालु और बी-ग्रेड लोगों को देखें जो कंगना के लिए ना जाने क्या क्या कहती हैं।’

रंगोली से पहले कंगना रनौत ने हाईकोर्ट के फैसले पर अपनी खुशी जाहिर करते हुए एक वीडियो शेयर किया था। वीडियो में कंगना ने कहा था- “हैलो दोस्तों, मैं अपनी फिल्म थलाइवी की शूटिंग कर रही हूं, लेकिन मुझे बहुत अच्छी खबर मिली है कि मेरे बंगले का जो अवैध ध्वस्तीकरण हुआ था, उसका जो फैसला है, वो मेरे पक्ष में आया है। मैं अपनी न्यायपालिका, हाईकोर्ट की धन्यवादी हूं। जब भी कोई व्यक्ति सरकार के खिलाफ खड़ा होता है और उसकी जीत होती है तो ये लोकतंत्र की विजय है। मैं सभी फैंस को धन्यवाद कहना चाहती हूं, जिन्होंने मुझे साहस दिया। जिन लोगों ने मेरा मजाक बनाया, मैं उन विलेन को भी धन्यवाद कहना चाहती हूं क्योंकि उनकी वजह से ही मैं हीरो हूं।”

आपको बता दें, हाईकोर्ट ने शुक्रवार को कंगना के पक्ष में फैसला सुनाते हुए बीएमसी की कार्रवाई को गलता ठहराया था। बॉम्बे उच्च न्यायालय ने कहा कि बीएमसी द्वारा अभिनेत्री कंगना रनौत के बंगले के हिस्से को ध्वस्त करने की कार्रवाई द्वेषपूर्ण कृत्य था और अभिनेत्री को नुकसान पहुंचाने के लिए किया गया था। अदालत ने विध्वंस के आदेश को रद्द कर दिया। अदालत ने यह भी कहा कि अदालत किसी भी नागरिक के खिलाफ प्रशासन को ‘बाहुबल’ का उपयोग करने की मंजूरी नहीं देता है।

कंगना रनौत ने बीएमसी से हर्जाने में दो करोड़ रुपये मांगे थे और अदालत से बीएमसी की कार्रवाई को अवैध घोषित करने का आग्रह किया था। मुआवजे के मुद्दे पर पीठ ने कहा कि अदालत नुकसान का आकलन करने के लिए मूल्यांकन अधिकारी नियुक्त कर रही है जो याचिकाकर्ता और बीएमसी को विध्वंस के कारण होने वाले आर्थिक नुकसान पर सुनवाई करेगा।