चीनी सरकार के जुर्माने के बाद अलीबाबा के फाउंडर जैक मा के लिए आयी अमेरिका से अच्छी खबर

592

पिछले सप्ताह ही चीनी के बड़े उद्दोगपति जैक मा की कंपनी पर अबतक का सबसे बड़ा जुर्माना चीन की सरकार ने लगाया था। लेकिन अब एक बार फिर उनकी किस्मत बदल गई है। सोमवार को जैक मा के लिए अमेरिका से एक अच्छी खबर आई।

अलीबाबा की अमेरिकन डिपाॅजिटरी रिसिप्ट में जबर्दस्त उछाल देखा गया। सोमवार को यह 9.3% की उछाल देखी गई। यह पिछले चार सालों में अबतक की सबसे बड़ी उछाल है। ब्लूमबर्ग के बिलेनियर इंडेक्स के अनुसार जैक मा की संपत्ति 2.3 बिलियन डाॅलर का उछाल आया है जो कि अब बढ़कर 52.1 बिलियन डाॅलर हो गया है।

पिछ्ले सप्ताह दुनिया के जाने-माने बिजनेस मैन और चीन के सबसे रईस व्यक्तियों में से एक जैक मा की कंपनी अलीबाबा पर चीन की सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 18.3 युआन (2.8 अरब डाॅलर) का जुर्माना लगाया था। चीनी सरकार ने यह जुर्माना एकाधिकार विरोधी नियमों के उल्लंघन में दोषी पाने के बाद लगाया था। पिछले साल नवंबर में जैक मा ने चीनी सरकार की नीतियों की आलोचना की थी, जिसके बाद से ही लगातार उन पर एक के बाद एक कार्रवाई हो रही है।

चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के नेता टेक्नोलॉजी के सेक्टर में हो रहे एकाधिकार से काफी चिंतित थे। साथ ही उन्होंने अलीबाबा को अपने पोजीसन के दुरूपयोग का भी दोषी पाया, जिसके बाद उनपर यह कार्रवाई हुई थी। कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं का मानना है कि उन्होंने अपनी ताकत का गलत उपयोग किया है। जैक मा की कंपनी अलीबाबा ने 2019 में 69.5 अरब डाॅलर की कमाई की थी, यह जुर्माना 2019 की कमाई का 4 प्रतिशत है।

गोल्ड लोन लेते समय बरतें सावधानी, वरना बाद में पड़ेगा पछताना

अलीबाबा के स्थापना 1999 में की गई थी। तब कंपनी खुदरा ब्यापार, बिजनेस से बिजनेस और कंज्यूमर से कंज्यूमर प्लेटफार्म में इनवेस्टमेंट करती थी, लेकिन आगे चलकर कंपनी ने फिल्मों, फाइनेंशियल सर्विसेज में भी निवेश करना शुरू कर दिया था।

जैक मा ने की थी सरकार की आलोचना

चीन के सबसे अमीर व्यक्तियों में से एक जैक मा ने नवंबर में चीनी सरकार की जमकर आलोचना की थी। जिसके बाद से ही वह गायब चल रहे थे। जैक मा ने तब सिस्टम सुधारों की वकालत की थी। चीन की कम्युनिस्ट सरकार को उनकी यह सलाह नागवार गुजरी जिसके बाद जैक मा की कंपनी एंट ग्रुप का 37 अरब डाॅलर का आईपीओ निलंबित कर दिया गया था।