51वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का गोवा में हुआ आगाज, 224 फिल्मे होंगी इस महोत्सव में शामिल

300

गोवा में होने वाले भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) का आगाज हो चुका है। यह 51वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव है। इस बार फिल्म महोत्सव का आयोजन गोवा के पणजी में डॉ. श्यामप्रसाद मुखर्जी स्टेडियम में किया गया है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव 16 जनवरी से 24 जनवरी तक चालू रहेगा।

इस बार दुनियाभर से 224 फिल्मों को इस महोत्सव में शामिल किया गया है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के आयोजन में हिस्सा लेने के लिए सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर गोवा पहुंचें। उन्होंने कला और संस्कृति की दृष्टि से इस आयोजन को बहुत महत्वपूर्ण बताया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पहले की तुलना में इस बार भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव पहले से खास है। कोविड-19 की वजह से पहली बार हाईब्रिड आयोजन हो रहा है।

उन्होंने आगे कहा कि फिल्मोत्सव के हाईब्रिड होने की वजह से लोग इसे ऑनलाइन भी देख सकते हैं। फिल्म महोत्सव में सभी तरह की फिल्मों का प्रदर्शन होगा। साथ ही दूरदर्शन और अन्य चैनल सहित सोशल मीडिया के कई प्लेटफॉर्म पर प्रसारण किया जाएगा। इतना ही नहीं प्रकाश जावडेकर ने कहा कि थियेटर में कोविड-19 के प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन होगा। यह कला और संस्कृति की दृष्टि से महत्वपूर्ण 51वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव है। हर बार 16 नवंबर से 24 नवंबर तक इसका आयोजन होता है, लेकिन कोविड के कारण इसे स्थगित कर इस बार जनवरी में किया है।

वहीं गौरतलब है कि 51वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव ने इस बार के ‘कंट्री इन फोकस’ खंड के तौर पर पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश को चुना है। ‘कंट्री इन फोकस’ संबंधित देश की सिनेमाई उत्कृष्टता और योगदान को मान्यता देता है। आपको बता दें कि भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव एशिया के सबसे खास फिल्म समारोहों में से एक है। इसकी शुरूआत साल 1952 में की गई थी। यह महोत्सव हर साल गोवा में होता है।

इस महोत्सव का मकसद सारी दुनिया के सिनेमा के लिए एक समान मंच मुहैया करवाना है। इस महोत्सव का संचालन सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अंतर्गत और गोवा सरकार के सहयोग से किया जाता है। भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के द्वारा दुनियाभर के सिनेमा को अपनी फिल्म कला का प्रदर्शन करने के लिए प्लेटफार्म मिलता है।