भारतीय रेलवे का किसानों के लिए तोहफा! अब आधे दाम पर होगी फलों, सब्जियों की ढुलाई

347
IRCTC

किसान रेल चले 2 महीने 7 दिन हो गए हैं. किसान इसका खूब लाभ उठा रहे हैं. मोदी सरकार ने उन्हें और राहत देने के लिए अब फलों और सब्जियों के किराये में भारी छूट दे दी है. अब इसके लिए आधा किराया लिया जाएगा. यानी किसान रेल अब पहले के मुकाबले ज्यादा मददगार साबित होगी. सरकार ने अधिसूचित फलों एवं सब्जियों की ढुलाई पर 50 फीसदी सब्सिडी देने का आदेश जारी किया है. यह सब्सिडी आपरेशन ग्रीन-टॉप टू टोटल योजना के तहत दी जाएगी.

इसकी वजह से मंडी तक सामान पहुंचाने की लागत कम हो जाएगी और उनकी आय में वृद्धि होगी. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का कहना है कि टमाटर, प्याज व आलू के साथ अन्य सभी फल-सब्जियों (टोटल) पर परिवहन सब्सिडी अब किसान रेल योजना के तहत भी उपलब्ध होगी. किसानों सहित कोई भी व्यक्ति, अधिसूचित फल व सब्जी को किसान रेल के माध्यम से केवल 50% भाड़े पर परिवहन कर सकता है.

सात सितंबर को रेल मंत्रालय ने बताया था कि उद्घाटन के दिन 7 अगस्त 2020 को किसान रेल पर लोडिंग 90.92 टन की हुई थी, जो 14 अगस्त को 99.91 टन और 21 को 235.44 टन हो गई. इसके बाद इसे सप्ताह में दो बार किया गया. लेकिन 1 सितंबर को 354.29 टन लोडिंग हुई. इसलिए इसके तीन फेरे कर दिए गए. लोडिंग में और वृद्धि की संभावना जताई गई है.

किसान रेल की भारी मांग को ध्‍यान में रखते हुए भारतीय रेलवे ने देवलाली-मुजफ्फरपुर किसान रेल और सांगोला-मनमाड-दौंड किसान रेल  के फेरे को बढ़ाकर सप्ताह में तीन दिन कर दिया है.