भारत की 50 फीसदी से अधिक आबादी फुली वैक्सीनेटेड, पीएम मोदी ने की सराहना, कहा – कोरोना के खिलाफ जंग में इस गति को बनाए रखना जरूरी

    235
    PM Modi vaccination

    देश में कोरोनावायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) लगवाने के लिए पात्र लोगों की 50 फीसदी से अधिक आबादी का फुली वैक्सीनेशन हो चुका है. कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में वैक्सीनेशन एक अहम हथियार है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया (Mansukh Mandviya) ने रविवार को इसकी जानकारी दी. वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैक्सीनेशन में इस उपलब्धि को मील का पत्थर बताया है और कहा है कि वैक्सीनेशन के इस मूमेंटम को बनाए रखना जरूरी है. साथ ही उन्होंने लोगों से कोरोना नियमों का पालन करने की गुजारिश भी की है.

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने ट्वीट कर कहा, ‘भारत के वैक्सीनेशन प्रोग्राम (India’s Vaccination Program) ने एक और महत्वपूर्ण मील के पत्थर को पार किया है. कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई को मजबूत करने के लिए इस गति को बनाए रखना महत्वपूर्ण है. और हां, मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग सहित अन्य सभी कोविड-19 संबंधित प्रोटोकॉल (Covid-19 Protocols) का पालन करते रहें.’ भारत सहित दुनियाभर में कोरोना के नए ओमीक्रॉन वेरिएंट (Omicron Varinat) के मद्देनजर तेजी से वैक्सीनेशन किया जा रहा है.

    देश में 84.8 प्रतिशत से अधिक आबादी को लगी पहली डोज
    गौरतलब है कि रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने देश में कोरोनावायरस वैक्सीन की 127.61 करोड़ से अधिक डोज दिए जाने के बीच कहा कि देश में 50 प्रतिशत से अधिक पात्र वयस्क आबादी का फुली वैक्सीनेशन हो चुका है. स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि देश में 84.8 प्रतिशत से अधिक वयस्क आबादी को वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है. मांडविया ने ट्वीट किया, ‘बधाई हो भारत. यह बेहद गर्व का क्षण है क्योंकि 50 प्रतिशत से अधिक पात्र आबादी का फुली वैक्सीनेशन हो गया है. हम साथ मिलकर कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई जीतेंगे.’

    इस तरह शुरू हुआ वैक्सीनेशन प्रोग्राम
    बता दें कि देशव्यापी वैक्सीनेशन प्रोग्राम की शुरुआत 16 जनवरी से की गई थी और पहले चरण में स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों का वैक्सीनेशन किया गया था. इसके बाद अग्रिम मार्चे के कर्मियों का वैक्सीनेशन दो फरवरी से शुरू हुआ था. वैक्सीनेशन का अगला चरण एक मार्च से शुरू कहुआ, जिसके तहत 60 साल से अधिक उम्र के लोगों और 45 साल से अधिक लोगों और किसी बीमारी से जूझ रहे लोगों का वैक्सीनेशन किया गया. देश ने 1 अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों के लिए वैक्सीनेशन शुरू किया. सरकार ने एक मई से 18 वर्ष से ऊपर के सभी लोगों के वैक्सीनेशन की अनुमति देकर अपने वैक्सीनेशन प्रोग्राम का विस्तार करने का निर्णय लिया.