Corona Restrictions Update: देश में थम नहीं रही कोरोना की रफ्तार, इन राज्यों ने उठाए सख्त कदम

220
chennai Lockdown

महाराष्ट्र, पंजाब, कर्नाटक, केरल, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और गुजरात में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। संक्रमण के नए मामलों में इन राज्यों की भागीदारी 77.44 फीसदी है। कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलों के बीच कई राज्यों ने सख्त कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। इन राज्यों में त्योहारों पर लोगों को इकट्ठा होने की इजाजत नहीं होगी। आइए जानते हैं कि किन राज्यों में किस तरह के कदम उठाए गए हैं।  

मध्यप्रदेश के चार जिलों में हर रविवार को लॉकडाउन 
मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों से चिंतित प्रदेश सरकार ने चार और जिलों बैतूल, छिंदवाड़ा, रतलाम और खरगोन में रविवार को लॉकडाउन लागू करने का निर्णय लिया है। राज्य के इंदौर, भोपाल और जबलपुर में हर रविवार को लॉकडाउन लागू करने का फैसला पहले ही किया जा चुका है।

एक अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को मंत्रिपरिषद की बैठक के बाद यह जानकारी भी दी। प्रदेश के सात शहरों में शनिवार रात दस बजे शुरु होकर सोमवार सुबह छह बजे लॉकडाउन रहेगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक कोविड-19 की रोकथाम के लिये 26,90,646 लोगों को टीका लगाया गया है।अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में प्रतिदिन तीन लाख लोगों को टीका लगाने का प्रयास किया जा रहा है ताकि अगले तीन माह में सभी लक्षित समूहों को टीका लगाया जा सके।
छत्तीसगढ़ में भी सख्ती
छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए रायपुर जिला प्रशासन ने होली मिलन और अन्य सार्वजनिक कार्यक्रमों की अनुमति नहीं देने का फैसला किया है। रायपुर जिले के अधिकारियों ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या में लगातार वृद्धि होने के कारण जिलाधिकारी एस भारतीदासन ने आदेश जारी किया है कि होली मिलन या अन्य किसी भी प्रकार के सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति नहीं होगी। होलिका दहन के दौरान सैनिटाइजर का इस्तेमाल, सामाजिक दूरी का पालन और मास्क का उपयोग करने की शर्त का कड़ाई से पालन करते हुए अधिकतम पांच व्यक्ति उपस्थित रह सकेंगे। 

छत्तीसगढ़ में पिछले 24 घंटे के दौरान कोविड-19 के 2106 नए मामले सामने आए जिससे राज्य में इस वायरस से संक्रमित हुए लोगों की संख्या बढ़कर 3,29,694 हो गई। राज्य में बुधवार को 49 लोगों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दी गई है, वहीं 430 लोगों ने घर पर पृथकवास की अवधि पूर्ण की। राज्य में कोरोना वायरस संक्रमित 28 और मरीजों की मौत हुई है। 
राजस्थान में होली व शब-ए-बारात पर सार्वजनिक स्थलों पर कार्यक्रम नहीं
कोरोना वायरस संक्रमितों की बढ़ती संख्या के बीच राजस्थान सरकार ने होली व शब ए बारात पर सार्वजनिक स्थानों पर किसी तरह का कार्यक्रम करने पर रोक लगा दी है। गृह विभाग ने बुधवार को इस बारे में आदेश जारी किया।

इसके अनुसार राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए गृह विभाग के 21 मार्च, 2021 के आदेश के तहत जारी दिशानिर्देश की निरन्तरता में होली व शब-ए-बारात के अवसर पर 28 व 29 मार्च को सार्वजनिक स्थलों पर, सार्वजनिक मैदानों, सार्वजनिक पार्क, बाजार व धार्मिक स्थलों पर किसी भी प्रकार के आयोजनों पर रोक लगाई गई है। 
 
नोएडा – गाजियाबाद में भी कड़े दिशा-निर्देश
कोरोना संक्रमण का दायरा एक बार फिर बढ़ने लगा है। कुछ दिनों के बाद होली है इसलिए प्रशासन के माथे पर चिंता की लकीरें गहरा गई हैं क्योंकि तीज-त्योहार के बहाने लोगों के मेल-जोल से संक्रमण यकीनी तौर पर बढ़ेगा। इसे देखते हुए कई जगहों पर कोविड नियमों को एक बार फिर सख्ती से अमल में लाया जा रहा है। 

इसी तैयारी के तहत गौतमबुद्ध नगर और गाजियाबाद में कुछ गाइडलाइंस जारी की गई हैं। दिशा-निर्देशों में होली पर सख्ती बरतने की बात कही गई है। राज्य सरकार के आदेश के तहत सभी स्कूल और शैक्षणिक संस्थाएं 31 मार्च तक के लिए बंद कर दिए गए हैं।   

60 साल से अधिक के बुजुर्गों के लिए होली नहीं?
नोएडा के डीएम सुहास एलवाई ने बताया कि अब नोएडा में होली से जुड़े किसी भी सामूदायिक कार्यक्रम के लिए शासन से आज्ञा लेनी होगी। ये अनुमति पुलिस अफसर या प्रशासन से ऑनलाइन ली जा सकती है। लेकिन इन कार्यक्रमों में 60 साल से अधिक के लोग और दस साल से कम उम्र के बच्चे शामिल नहीं हो सकेंगे।

इसके अलावा अब नोएडा के अलग-अलग इलाकों में रैंडम कोरोना टेस्ट किए जाएंगे। डीएम के अनुसार, मेट्रो स्टेशन, बस स्टैंड, बाजार और बॉर्डर वाले क्षेत्रों में टेस्टिंग बढ़ाई जाएगी। 

महाराष्ट्र में 20 फीसदी नमूनों में दोहरे म्यूटेशन वाले वायरस
भारतीय सार्स कोव-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम (आईएनएसएसीओजी) वायरस की जीनोम सीक्वेंसिंग और विश्लेषण कर रहा है। 25 दिसंबर से आईएनएसएसीओजी ने महाराष्ट्र से लिए गए सैंपल के विश्लेषण से पता चला है कि पिछले साल दिसंबर की तुलना में ई484क्यू और एल452आर म्यूटेशन के अंश वाले नमूनों में बढ़ोतरी हुई है। 15 से 20 फीसदी नमूनों में यह म्यूटेशन पाया गया है।

केरल के सभी 14 जिलों में 2032 नमूनों की सीक्वेंसिंग की जा चुकी है। 11 जिलों के 123 नमूनों में एन440 के वेरिएंट पाया गया है, जो शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को चकमा दे सकता है। इससे पहले, यह वेरिएंट आंध्र के 33 फीसदी और तेलंगाना के 50 फीसदी नमूनों में पाया गया था। यह वेरिएंट 16 अन्य देशों में भी पाया गया है, जिनमें ब्रिटेन, डेनमार्क, सिंगापुर, जापान और ऑस्ट्रेलिया में शामिल हैं। कोरोना से उत्पन्न स्थिति का पता लगाने के लिए जीनोम सीक्वेंसिंग और महामारी शोध अध्ययन फिलहाल जारी है।

नासिक में एक दिन में सबसे अधिक 3,338 नए मामले  
महाराष्ट्र के नासिक जिले में बुधवार को एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक 3,338 मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 1,56,899 हो गई। स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा है कि नासिक में पहली बार एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के तीन हजार से अधिक मामले सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि संक्रमण के चलते 15 और रोगियों की मौत हो गई, जिसके बाद जिले में मृतकों की संख्या 2,262 हो गई है। उन्होंने कहा कि अब तक कुल 1,36,315 लोग संक्रमण से उबर चुके हैं। इनमें से 2,224 लोग बुधवार को ठीक हुए हैं।

पंजाब में भी हालात चिंताजनक 
मोहाली में कोरोना जांच के लिए आए 115 नमूनों से 106 में ब्रिटेन का वायरस मिलने से हड़कंप मच गया। बुधवार को नमूनों की जांच रिपोर्ट आने के बाद अब स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है। वहीं, बुधवार को ट्राइसिटी में कोरोना के 680 नए मामले सामने आए जबकि तीन मरीजों ने दम तोड़ दिया। मृतकों में दो मोहाली के जबकि एक चंडीगढ़ का रहने वाला था। वहीं, नए संक्रमितों में चंडीगढ़ के 249, मोहाली के 303 और पंचकूला के 128 मरीज शामिल हैं।