चालू वित्त वर्ष के पहले 11 माह मे देश का कोयला आयात 13.69 प्रतिशत घटा

416

देश का कोयला आयात चालू वित्त वर्ष के पहले 11 महीनों में यानी अप्रैल से फरवरी 2020 के दौरान 13.6 फीसदी घटकर 19.61 करोड़ टन रह गया है। जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में कोयला आयात 22.72 करोड़ टन रहा था। टाटा स्टील और सेल के संयुक्त उपक्रम एमजंक्शन सर्विसेज की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।

12.89 करोड़ टन रहा नॉन-कोकिंग कोयले का आयात
रिपोर्ट में कहा गया है कि अप्रैल से फरवरी के दौरान कुल कोयला आयात 13.69 फीसदी घटकर 19.61 करोड़ टन रह गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 22.72 करोड़ टन था। समीक्षाधीन अवधि में नॉन-कोकिंग कोयले का आयात घटकर 12.89 करोड़ टन रह गया, जो 2019-20 के पहले 11 माह में 15.75 करोड़ टन रहा था।

फरवरी में 1.52 करोड़ टन रहा कोयला आयात 
वहीं कोकिंग कोयले का आयात घटकर 4.39 करोड़ टन रह गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 4.51 करोड़ टन था। फरवरी, 2021 में देश का कोयला आयात 1.52 करोड़ टन रहा। फरवरी, 2020 में कोयला आयात 2.26 करोड़ टन था।

इसलिए आई गिरावट
इस संदर्भ में एमजंक्शन सर्विसेज के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) विनय वर्मा ने कहा कि फरवरी में आयात में बड़ी गिरावट की वजह अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमतों में मजबूती तथा ढुलाई भाड़ा बढ़ने की वजह से तापीय कोयले के आयात में गिरावट है।

21 से 21.5 करोड़ टन के बीच रहेगा आयात 
फरवरी में कुल आयात में नॉन-कोकिंग कोयले का हिस्सा 90.7 लाख टन रहा। इससे पिछले साल समान महीने में यह 1.69 करोड़ टन रहा था। वहीं इस दौरान कोकिंग कोयले का आयात 48.2 लाख टन रहा। फरवरी, 2019 में यह आंकड़ा 40.2 लाख टन का था। वर्मा ने कहा कि, ‘चालू वित्त वर्ष में देश का कोयला और कोक आयात उल्लेखनीय रूप से घटेगा। यह 21 से 21.5 करोड़ टन के बीच रहेगा।’