कमलनाथ के बयान पर बोलीं इमरती देवी- पार्टी से बाहर निकालें सोनिया, भाजपा आज कर रही मौन उपवास, शिवराज और सिंधिया ने भी किया विरोध

427

मध्‍य प्रदेश में 28 सीटों पर होने वाले उपचुनावों को लेकर सियासी सरगर्मी दिनों दिन तेज होती जा रही है। चुनावी लड़ाई में नेता मर्यादा की सीमा रेखा पार करने से भी गुरेज नहीं कर रहे हैं। इसी सियासी वार पलटवार के बीच कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता एवं पूर्व मुख्‍यमंत्री कमलनाथ भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी इमरती देवी के खिलाफ अमर्यादित टिप्‍पणी कर के पूरी तरह घिर गए हैं। इस बयान के चलते कांग्रेस बैकफुट पर नजर आ रही है। वहीं भाजपा ने मोर्चा खोलते हुए कमलनाथ के विवादित बयान के विरोध में सोमवार को पूरे सूबे में मौन उपवास आयोजित करने का निर्णय लिया है।

दूसरी तरफ इमरती देवी ने कहा, ‘इन लोगों को मध्‍य प्रदेश में रहने का कोई हक नहीं। ये कहां से आए हैं… मैंने मध्‍य प्रदेश को देखा है। मध्‍य प्रदेश में सभी महिलाओं का सम्‍मान होता है… महिला शक्ति को घर की लक्ष्‍मी माना जाता है। आज उसने मध्‍य प्रदेश की सभी लक्ष्‍मियों (महिलाओं) को गाली दी है। मैं सोनिया गांधी से मांग करती हूं कि वह कमलनाथ को कांग्रेस से बाहर निकालें। मैं सोनिया गांधी जी से हाथ जोड़कर प्रार्थना करती हूं कि आप भी किसी की मां हैं। आप भी एक बेटी की मां हैं… यदि आपकी बेटी के बारे में कोई ऐसा कहेगा तो क्‍या आप उसे सहन करेंगी..?

इमरती देवी ने पूर्व मुख्‍यमंत्री कमलनाथ के इस अमर्यादित बयान पर आगे कहा कि यदि मेरा जन्म गरीब परिवार में हुआ तो इसमें मेरी क्या गलती है? अगर मैं दलित समुदाय से आती हूं तो उसमें मेरी क्या गलती है? यदि एक महिला के खिलाफ इस तरह के शब्द के प्रयोग होंगे तो वह आगे कैसे बढ़ेगी? वहीं भाजपा ने कमलनाथ के विवादित बयान के विरोध में मौन उपवास करने का फैसला लिया है। मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भोपाल में, प्रदेश अध्‍यक्ष वीडी शर्मा ग्वालियर में और ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया इंदौर मौन उपवास करेंगे।

क्या बोले थे कमलनाथ?

कमलनाथ ने कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी के पक्ष में जनसभा को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने बिना इमरती देवी का नाम लिए कहा, “हमारे उम्मीदवार सीधे सरल स्वभाव के हैं, उसके जैसे नहीं है, उसका क्या नाम है (जनता की आवाज आई इमरती देवी), मैं उसका नाम क्या लूं, मुझ से ज्यादा आप उसे पहचानते हैं। आप तो मुझे उससे पहले ही सावधान कर देते। ये क्या आइटम है।”
टिप्पणी के विरोध में शिवराज रखेंगे मौन उपवास

कमलनाथ की इस टिप्पणी के विरोध में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मौन प्रदर्शन करने का ऐलान किया। उन्होंने कहा, “मैं कल दोपहर 10 बजे से 12 बजे तक कमलनाथ द्वारा इमरती देवी के लिए इस्तेमाल किए गए आपत्तिजनक शब्दों के विरोध में मौन प्रदर्शन करुंगा। उन्हें अपने बयान पर शर्म आनी चाहिए।”

सिंधिया ने भी किया विरोध
कमलनाथ की टिप्पणी के विरोध में भाजपा के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर कहा, “एक गरीब और मजदूर परिवार से आगे आईं दलित नेता इमरती देवी जी को आज डबरा में आइटम और जलेबी कहना अत्यंत निंदनीय और आपत्तिजनक है – ये कमलनाथ जी की मानसिकता को भी दर्शाता है। महिलाओं के साथ ही समूचे दलित समाज का अपमान करने वाले ऐसे मगरूर नेता को सबक सिखाने का समय आ गया है।”