हरियाणा: हिसार में सरकार के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन, छावनी में बदला शहर, सात जिलों की पुलिस तैनात

    380

    हिसार में सोमवार को किसान प्रदर्शन करेंगे। आयुक्त कार्यालय पर किए जाने वाले प्रदर्शन को लेकर किसानों ने सभी तैयारियां कर ली हैं। वहीं, किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए पुलिस प्रशासन भी सतर्क है। किसानों के प्रदर्शन को लेकर प्रशासन ने रैपिड एक्शन फोर्स, हरियाणा आर्म्ड पुलिस के अलावा सात जिलों की पुलिस को हिसार में बुलाया है। जिले में करीब चार हजार से अधिक पुलिस जवान बुलाए गए हैं। जिला प्रशासन ने 26 ड्यूटी मजिस्ट्रेट तैनात किए हैं। सात जिलों के खुफिया विभाग के कर्मियों को हिसार में लगाया गया है। किसानों की मीटिंग, टोल प्लाजा पर लिए जा रहे फैसलों और पंचायतों के बारे में पूरी रिपोर्ट प्रशासन को भेजी जा रही है।

    प्रदर्शन को लेकर जिले भर से किसान शहर के क्रांतिमान पार्क में एकत्रित होंगे और वहां से जुलूस के रूप में आयुक्त कार्यालय की ओर जाएंगे और घेराव करेंगे। उधर, जिला प्रशासन की तरफ से किसानों को बातचीत का निमंत्रण दिया गया है। मगर किसान नेताओं का कहना है कि वे तहसीलदार आदि से बातचीत नहीं करेंगे। अगर खुद आयुक्त उन्हें बुलाएं तो वे बातचीत के लिए तैयार हैं।

    किसान सभा के जिला प्रेस सचिव सूबेसिंह बूरा ने बताया कि 16 मई को निहत्थे किसानों एवं महिलाओं पर पुरुष पुलिस कर्मचारियों ने लाठीचार्ज किया। आंसू गैस के गोले छोड़े, जिसमें सैकड़ों किसानों को चोटें आईं। इस घटना के विरोध में 24 मई को आयुक्त कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। प्रदर्शन में किसान-मजदूर संयुक्त मोर्चा के राष्ट्रीय व प्रांतीय नेता भी भाग लेंगे। किसान नेता राकेश टिकैत के आने की भी चर्चा है।

    बूरा ने बताया कि किसानों का शांतिपूर्ण प्रदर्शन सुबह 10 बजे क्रांतिमान पार्क से चलकर आयुक्त कार्यालय तक जाएगा। जिले के सभी 312 गांवों से पुरुष एवं महिला किसान इस प्रदर्शन में भाग लेंगे। हिसार पहुंचने के लिए हर गांव में ट्रैक्टरों व अन्य साधनों की व्यवस्था कर ली गई है। जिला सचिव सतबीर धायल ने कहा कि इस प्रदर्शन में यह मांग भी की जाएगी कि किसानों पर लाठीचार्ज के जिम्मेवार जिला पुलिस अधीक्षक पर हत्या के प्रयास का केस दर्ज करके उन्हें गिरफ्तार किया जाए। दूसरी ओर लघु सचिवालय के बाहर किसानों का चल रहा बेमियादी धरना रविवार को 27वें दिन में प्रवेश कर गया।

    जिला प्रशासन ने आंदोलनरत किसानों को बातचीत का दिया न्योता
    जिला प्रशासन ने आंदोलनरत किसानों को फिर से बातचीत का न्योता दिया है। जिला प्रशासन की तरफ से प्रेस को जारी किए गए बयान में कहा गया कि 21 मई को हुई वार्ता में किसानों ने हिसार मंडलायुक्त के लिए अपनी मांगें रखी थीं। इन मांगों का समाधान करने की दिशा किसान संगठन के प्रतिनिधियों को मंडलायुक्त ने बातचीत का न्योता दिया है। महामारी के इस कठिन दौर में यह जरूरी है कि किसान आंदोलन का हल शांतिपूर्ण ढंग से बातचीत के माध्यम से निकाला जाए। यह व्यापक हित में है।

    हर हाल में करेंगे प्रदर्शन
    किसान हर हाल में सोमवार का प्रदर्शन करेंगे। हमारे पास जो बातचीत का निमंत्रण आ रहा है, वह तहसीलदार, इंस्पेक्टर आदि की तरफ से आ रहा है, जबकि उनके पास इस मामले के समाधान को लेकर किसी तरह की पावर नहीं है। हम सिर्फ उसी स्थिति में बातचीत के लिए तैयार हैं, जब खुद आयुक्त हमसे बात करें। -सूबे सिंह बूरा, जिला प्रेस सचिव, किसान सभा।