सोना-चांदी के वायदा कीमतों में आज मामूली गिरावट, खुदरा आभूषण उद्योग में इस साल आ सकती है 35 फीसदी तेजी, फटाफट चेक करें लेटेस्ट रेट

202
gold silver rates
gold silver rates

वैश्विक बाजारों के अनुरूप आज भारतीय बाजारों में सोने और चांदी की वायदा कीमत में गिरावट आई। एमसीएक्स पर सोना वायदा 0.1 फीसदी गिरकर 44,904 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गया, जबकि चांदी एक फीसदी फिसलकर 67,100 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गई। पिछले सत्र में सोना 0.3 फीसदी अधिक था, जबकि चांदी 0.7 फीसदी बढ़ी थी। 

वैश्विक बाजारों में, आज सोना हाजिर 0.4 फीसदी गिरकर 1,730.06 डॉलर प्रति औंस पर आ गया। पिछले कारोबारी दिन इसमें 0.5 फीसदी की गिरावट आई थी। वैश्विक बाजारों में चांदी और प्लैटिनम में भी गिरावट आई। चांदी 0.6 फीसदी गिरकर 25.89 डॉलर और प्लैटिनम 0.7 फीसदी की गिरावट के साथ 1,198.19 डॉलर पर बंद हुआ।

अमेरिकी बॉन्ड यील्ड 14 महीने के सबसे ऊंचे स्तर 1.75 फीसदी पर पहुंच गया है। यह पिछले साल जनवरी के बाद से अब तक का सबसे ज्यादा है। इससे सोने की कीमत प्रभावित हुई। डॉलर सूचकांक 91.882 पर था, जो अमेरिकी मुद्रा के गैर-धारकों के लिए सोने को महंगा बनाता है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के पदभार संभालने के बाद अमेरिका और चीन के बीच होने वाली पहली उच्च स्तरीय वार्ता पर स्वर्ण के व्यापारियों  की नजर है।

सोने की कीमतों में भारी गिरावट के बाद खुदरा आभूषण उद्योग में इस साल 30-35 फीसदी तेजी की उम्मीद है। इंडिया रेटिंग्स ने एक रिपोर्ट में कहा, आर्थिक गतिविधियों के कोरोना पूर्व पर पहुंचने और सोने की कीमतों में नरमी से सुधार को गति मिलेगी। इससे पहले 2020-21 की तीसरी तिमाही में त्योहारी सीजन, शादी-विवाह के कारण मांग बढ़ने और कीमतों में 10 फीसदी गिरावट के कारण सोने की मांग में तेजी देखने को मिली थी। रिपोर्ट के मुताबिक, मांग में वृद्धि की वजह से चालू वित्त वर्ष के मुकाबले 2021-22 में आभूषणों की मांग 30-35 फीसदी बढ़ने की उम्मीद है। हालांकि, अगले वित्त वर्ष में अर्थव्यवस्था में ‘वी-आकार’ में सुधार को देखते हुए कोरोना पूर्व स्तर के मुकाबले समग्र मांग महज 5-10 फीसदी ही बढ़ सकती है।

देश में पिछले तीन साल में 8,000 से 9,000 किलोग्राम डिजिटल गोल्ड की खरीद-बिक्री हुई है। इसमें अब तक सात-आठ करोड़ लोग निवेश कर चुके हैं। इस कारोबार से जुड़े जानकारों का कहना है कि मध्य वर्ग परिवारों में सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव और घर में रखने पर चोरी को लेकर हमेशा डर बना रहता है। वहीं, डिजिटल गोल्ड की खरीद में ऐसी कोई समस्या नहीं हैं। उनका कहना है कि वर्तमान में जब तकनीक और निवेश के लिए नए रास्ते तलाशे जा रहे हैं तो इसमें डिजिटल गोल्ड की भी मजबूत जगह बनती जा रही है।