आम आदमी की बढ़ी टेंशन, सोने और चांदी की वायदा कीमत में हुई बढ़त, जाने आज के नए रेट

196
gold silver rates
gold silver rates

अंतरराष्ट्रीय बाजारों के अनुरूप आज घरेलू बाजार में सोने और चांदी की वायदा कीमत में इजाफा हुआ। एमसीएक्स पर फरवरी का सोना वायदा 0.75 फीसदी उछलकर 50,678 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया, जबकि चांदी वायदा तीन फीसदी यानी 2,000 रुपये बढ़कर 69,874 रुपये प्रति किलोग्राम हो गया। 

वैश्विक बाजारों में शीर्ष अमेरिकी सांसदों ने कोविड-19 से लड़ने के लिए 900 अरब डॉलर के आर्थिक राहत पैकेज पर सहमति जताई, जिसके बाद सोने की दरों में बढ़ोतरी हुई। सोना हाजिर 0.4 फीसदी बढ़कर 1,888.76 डॉलर प्रति औंस हो गया। चांदी 0.9 फीसदी बढ़कर 26.01 डॉलर प्रति औंस हो गई। प्लैटिनम 0.1 फीसदी ऊपर 1,036.75 डॉलर और पैलेडियम 0.1 फीसदी गिरकर 2,358.71 डॉलर हो गया।

हालांकि, मजबूत अमेरिकी डॉलर ने सोने के लाभ को सीमित रखा। डॉलर के अमेरिकी प्रोत्साहन पैकेज पर समझौते के बावजूद कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते मामले और ब्रेक्सिट व्यापार पर प्रगति की कमी से डॉलर सूचकांक बढ़ा।

कोरोना वायरस से दुनिया में लगातार लोग प्रभावित हो रहे हैं। इसी कारण से दुनिया के कई देश फिर से पाबंदियां लगा रहे हैं। कोरोना वायरस का नया प्रकार ब्रिटेन में संक्रमण को तेजी से फैलाने के लिए जिम्मेदार है। ब्रिटेन की सरकार द्वारा वायरस के नए प्रकार के नियत्रंण से बाहर होने की चेतावनी जारी करने के बाद कड़े प्रतिबंध की घोषणा की है। वहीं भारत ने देश को इसकी चपेट में आने से बचाव के कदम तय करने के लिए आज संयुक्त निगरानी समूह की बैठक बुलाई है।

भारत में पिछले सप्ताह भौतिक सोने को छह सप्ताह में पहली बार छूट पर बेचा गया। रॉयटर्स ने बताया कि डीलर आधिकारिक घरेलू कीमतों पर एक डॉलर प्रति औंस की छूट की पेशकश कर रहे थे, जो पिछले हफ्ते के 2.5 डॉलर के प्रीमियम से कम थी। भारत में सोने की कीमतों में आयात कर और तीन फीसदी जीएसटी शामिल हैं।

मालूम हो कि चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-नवंबर के दौरान देश में सोने का आयात 40 फीसदी घटकर 12.3 अरब डॉलर रहा। महामारी के मद्देनजर मांग कम होने से आयात में कमी आई। स्वर्ण आयात का असर चालू खाते के घाटे पर पड़ता है। वाणिज्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले वित्त वर्ष 2019-20 की समान अवधि में इस मूल्यवान धातु का आयात 20.6 अरब डॉलर का था। हालांकि नवंबर महीने में सालाना आधार पर आयात 2.65 फीसदी बढ़कर तीन अरब डॉलर रहा।

चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-नवंबर के दौरान चांदी का आयात भी 65.7 फीसदी घटकर 75.2 करोड़ डॉलर रहा। सोने-चांदी के आयात में गिरावट से देश के व्यापार घाटा (यानी आयात और निर्यात का अंतर) 2020-21 के अप्रैल-नवंबर में 42 अरब डॉलर तक सीमित रहा। एक साल पहले समान अवधि में यह 113.42 अरब डॉलर था।