4 महीने के निचले स्तर पर पहुंचा सोने भाव, 1 हजार रुपये सस्ती हुई चांदी, चेक करें आज के लेटेस्ट रेट्स

995

आज घरेलू बाजार में सोने और चांदी की वायदा कीमत में गिरावट जारी रही। एमसीएक्स पर सोना वायदा 1.3 फीसदी यानी 600 रुपये गिरकर 46029 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया। यह सोने का करीब चार महीने का न्यूनतम स्तर है। चांदी की बात करें, तो यह 1.6 फीसदी यानी 1000 रुपये की गिरावट के साथ 63983 रुपये प्रति किलोग्राम पर रही। पीली धातु पिछले साल के उच्चतम स्तर (56200 रुपये प्रति 10 ग्राम) से 10,171 रुपये नीचे है। पिछले सत्र में सोना और चांदी क्रमश: 1000 रुपये और 2000 रुपये सस्ते हुए थे।

वैश्विक बाजारों में, सोना आज 4.4 फीसदी तक लुढ़क गया क्योंकि उम्मीद से बेहतर अमेरिकी नौकरियों के आंकड़ों ने आशंका जताई थी कि फेडरल रिजर्व उम्मीद से ज्यादा तेजी से दरें बढ़ाएगा। हाजिर सोना 2.3 फीसदी गिरकर 1,722.06 डॉलर प्रति औंस हो गया। चांदी 2.6 फीसदी गिरकर 23.70 डॉलर पर रही।

शुक्रवार को जारी किए गए आंकड़ों से पता चलता है कि अमेरिकी नियोक्ताओं ने जुलाई में लगभग एक साल में सबसे अधिक श्रमिकों को काम पर रखा और वेतन बढ़ोतरी भी जारी रही। डाटा ने डॉलर को बढ़ावा दिया। 

दुनिया की सबसे बड़ी गोल्ड समर्थित एक्सचेंज ट्रेडेड फंड या गोल्ड ईटीएफ, एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट की होल्डिंग्स गुरुवार के 1,027.61 टन के मुकाबले शुक्रवार को 1,025.28 टन हो गई। स्वर्ण ईटीएफ सोने की कीमत पर आधारित होते हैं। पीली धातु के दाम में आए उतार-चढ़ाव पर ही इसका दाम भी घटता-बढ़ता है। मालूम हो कि ईटीएफ का प्रवाह सोने में कमजोर निवेशक रुचि को दर्शाता है। एक मजबूत डॉलर अन्य मुद्राओं के धारकों के लिए सोने को अधिक महंगा बनाता है।

मालूम हो कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा सोने का आयातक देश है। मुख्य रूप से आभूषण उद्योग की मांग को पूरा करने के लिए सोने का आयात किया जाता है। मात्रा के हिसाब से भारत सालाना 800 से 900 टन सोने का आयात करता है।