22 अगस्त 1996 को जो पिता ने किया, 22 अगस्त 2020 ज़ैक क्रॉली ने रिपीट कर दिया!

202

आपने फिल्म करन-अर्जुन देखी है. उसमें शाहरुख और सलमान खान का पुनर्जन्म होता है. घूम फिरकर दोनों फिर से वही सब देखते हैं जो उनकी पिछली ज़िंदगी में हो चुका था. अगर हम आपको कहें कि कुछ-कुछ वैसी ही कहानी इंग्लैंड और पाकिस्तान के मैच में भी घटी है. तो आप शायद यकीन नहीं करेंगे. लेकिन आपको यकीन करना ही पड़ेगा क्योंकि साउथैम्प्टन में ऐसा ही हुआ है.

साउथैम्पटन में चल रहे सीरीज़ के तीसरे टेस्ट में 22 साल के लड़के ने कहर मचा दिया है. नाम है ज़ैक क्रॉली. ज़ैक ने शानदार 267 रन बनाए और इंग्लैंड को 583 रनों का बड़ा स्कोर दे दिया. ज़ैक का ये पहला टेस्ट शतक है. अब ज़रा कैसेट को रिवाइंड करते हैं. आज से ठीक 24 साल पहले इसी 22 अगस्त की तारीख पर एक बैट्समैन और पाकिस्तान पर बरस रहा था. ये उस वक्त की बात है जब ज़ैक क्रॉले पैदा भी नहीं हुए थे. उस बैट्समैन का नाम था जॉन क्रॉली.

क्रॉली सरनेम से आप इतना तो समझ ही गए होंगे कि दोनों में कोई तो करन-अर्जुन कॉम्बिनेशन ज़रूर है. आप सही समझ रहे हैं, बस फ़र्क इतना है कि ये भाई-भाई नहीं बल्कि पिता-पुत्र की जोड़ी है. 24 साल पहले पाकिस्तान के खिलाफ ताबड़तोड़ खेले जॉन, ज़ैक क्रॉली के पिता हैं.

यानी कि 24 साल पहले इन्हीं तारीखों पर जॉन ने अपना पहला टेस्ट शतक पाकिस्तान के खिलाफ जमाया था. और ऐसा ही कुछ अब ज़ैक ने भी कर दिया है. ज़ैक ने 22 अगस्त के दिन 267 रनों की पारी खेली. जबकि जॉन ने 22 अगस्त को खेलते हुए 96 रन बनाए थे और 23 अगस्त के दिन अपना शतक पूरा किया था.

क्रॉली पिता-पुत्र से आगे बढ़ें तो टेस्ट के दूसरे दिन पहले बारिश ने थोड़ी देरी करवाई. लेकिन पाकिस्तान के लिए तो विकेटों की देरी मैच शुरू होने के बाद भी बनी रही. ज़ैक क्रॉली और जोस बटलर ने दूसरे दिन भी बेजोड़ बैटिंग की और दूसरे दिन के 42.2 ओवरों तक एक भी विकेट गिरने नहीं दिया.

यानी कि पाकिस्तान टीम के लिए दिन का पहला सेशन पूरी तरह से और फिर दूसरा सेशन भी आधा सूखा ही निकला. आखिरकार ज़ैक क्रॉली की 267 रनों की मैराथन पारी का अंत असद शफीक की गेंद पर हुआ. 127/4 विकेट से शुरू हुई ये साझेदारी 486 पर जाकर खत्म हुई.

इधर मैच में क्रॉली के आउट होने के बाद भी बटलर टिके रहे. उन्होंने लगभग दो साल के बाद अपना पहला टेस्ट शतक पूरा किया. इसके बाद टीम के 500 और खुद के 150 रन पार करते ही बटलर ने पार्ट टाइमर फवाद आलम की बॉल पर उन्हीं को कैच थमा दिया. आखिर में इंग्लैंड की टीम ने आठ विकेट पर 583 रन बनाकर पारी घोषित कर दी.

दिन के अभी 10 से ज़्यादा ओवर बाकी थे और पाकिस्तान टीम बस यही चाहती थी कि ये ओवर जैसे-तैसे निकल जाएं. लेकिन जिमी एंडरसन के आगे दिन के आखिरी ओवरों में खुद को बचा पाना लोहे के चने चबाना जैसा होता है.

जिमी ने पहले ओपनर शान मसूद को LBW किया. फिर आबिद अली को लपकवाया और आखिरी ओवर में बाबर आज़म को ऐसा छकाया किया कि पाकिस्तान के लिए अब सबकुछ मुश्किल हो गया.दिन का खेल खत्म होने तक पाकिस्तान ने 24 रन पर तीन विकेट गंवा दिए हैं और उनके लिए मैच बचाना भी बहुत मुश्किल दिख रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here