कप्तान ‘ विराट कोहली ने 12 साल पहले किया था करियर का आगाज, कुछ ऐसा था डेब्यू मैच

207

टीम इंडिया को अपनी कप्तानी में साल 2008 में अंडर 19 विश्वकप जिताकर 19 साल के विराट कोहली सुर्ख़ियों में छा गए थे। जिसके बाद अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में आने में उन्हें ज्यादा समय नहीं लगा। मार्च में विश्वकप अपने नाम करने के बाद कोहली आज के ही दिन 18 अगस्त 2008 को पहली बार टीम इंडिया की नीली जर्सी पहनकर मैदान में उतरें। उस वक़्त किसी ने भी नहीं सोचा था कि ये 19 साल का लड़का अगले एक दशक में क्रिकेट जगत में ऐसी पहचान बनाएगा कि दुनिया में हर तरफ उसके नाम की चर्चा होगी।

जी हाँ, कोहली ने आज के ही दिन टीम इंडिया की तरफ से पहली बार अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में बतौर ओपनर कदम रखा था। वो अपने पहले मैच में दिल्ली टीम के ही साथी बल्लेबाज गौतम गम्भीर के साथ पहला मैच खेलने श्रीलंका के खिलाफ दांबुला में उतरे थे। ऐसे में कोहली अपने डेब्यू मैच को ज्यादा यादगार तो नहीं बना पाए और सिर्फ एक चौका मारकर 22 गेंदों में 12 रन बना पाए। इस तरह कोहली को भी आज अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में 12 साल पूरे हो गए हैं। मगर इन 12 सालों में कोहली ने पूरी दुनिया के कोने – कोने के मैदानों में अपने बल्ले से रन बरसाए हैं।

बतौर सलामी बल्लेबाज डेब्यू करने वाले वाले कोहली इस समय वनडे क्रिकेट में टीम इंडिया के नम्बर तीन के स्पेशलिस्ट बल्लेबाज हैं। जबकि पहला शतक उन्होंने अपने 14वें वनडे मैच में श्रीलंका के खिलाफ नम्बर चार पर बल्ल्लेबजी करते हुए जड़ा था। इस मैच में सहवाग और सचिन के जल्दी आउट होने पर गंभीर के बाद कोहली मैदान में उतरें और उन्होंने हर कोने में शॉट खेलते हुए। अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में साबित कर दिया था कि वो लम्बी – लम्बी पारियों को खेलने में कितने सक्षम बल्लेबाज हैं।

कोहली ने अपने पहले शतक के दौरान 114 गेंदों में 11 चौके और 1 छक्के के साथ 107 रन की पारी खेली जबकि उनके साथ खेलने वाले गंभीर ने भी नाबाद 150 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली थी। इसके बाद कोहली ने कभी पीछे मुड़करर नहीं देखा और सिर्फ वनडे ही नहीं बल्कि टेस्ट क्रिकेट में भी अपनी बल्लेबाजी का लोहा पूरी दुनिया में मनवाया। जिसके चलते आज उनके नाम वनडे क्रिकेट में 43 शतक तो टेस्ट में उनके नाम 27 शतक हैं। इस तरह वो कुल 70 शतक अभी तक अपने नाम कर चुके हैं। ऐसे में सभी का मानना है कि वो सचिन तेंदुलकर के 100 शतकों का रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं।

वहीं श्रीलंका के खिलाफ आज के दिन खेले जाने वाले मैच की बात करें तो भारतीय टीम 146 रन पर ढेर हो गई थी, जिसमें विराट ने डेब्यू किया और भारत ये मैच हार गया था। मगर कोहली ने अपने आगाज को एक बेहतरीन अंजाम की तरफ मोड़ जरूर दिया है।

इस तरह टीम इंडिया की रन मशीन और चेस मास्टर बनकर उभरे कप्तान कोहली के नाम एक और दिलचस्प रिकॉर्ड हैं। उनका वनडे, टी20 और टेस्ट तीनों फॉर्मेट में बल्लेबाजी औसत 50 से अधिक का है। इस तरह का कारनामा करने वाले वो दुनिया के एकलौते बल्लेबाज हैं। इतना ही नहीं इसके अलावा सबसे कम समय 11 हजार वनडे रन बनाने वाले भी वे दुनिया के इकलौते बल्लेबाज हैं। जबकि बल्लेबाजों की वनडे रैंकिंग में कोहली पहले पायदान पर तो टेस्ट क्रिकेट में वो दूसरे पायदान पर काबिज हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here