फ्लिपकार्ट ने वालमार्ट, सॉफ्टबैंक समेत कई और सरकारी संपत्ति और पेंशन कोष से जुटाए 26805 करोड़ रुपये

190

फ्लिकार्ट ने एक बयान में कहा कि टेनसेंट होल्डिंग्स लिमिटेड, ब्लैकस्टोन ग्रुप समर्थित अंतरा कैपिटल, अबू धाबी के सॉवरेन फंड एडीक्यू, कतर इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी और कनाडा पेंशन प्लान इन्वेस्टमेंट बोर्ड (सीपीपी इन्वेस्टमेंट्स) ने पूंजी डाले जाने के इस चरण में भाग लिया। ऐसी अटकलें है कि फ्लिपकार्ट आईपीओ (आरंभिक सार्वजनिक निर्गम) लाने की तैयारी में है। ऐसे में इस नई पूंजी के साथ कंपनी अमेजन इंक, उद्योगपति मुकेश अंबानी के जियो मार्ट और टाटा समूह की कंपनियों से बेहतर तरीके प्रतिस्पर्धा कर सकेगी। हालांकि, फ्लिपकार्ट ने यह जानकारी नहीं है कि इन निवेशकों ने अलग-अलग कितना निवेश किया है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि सॉफ्टबैंक ने करीब 50 करोड़ डॉलर निवेश किया है। 

वहीं सीपीपी इनवेस्टमेंट्स ने एक अलग बयान के कहा कि उसने 80 करोड़ डॉलर (करीब 5,968 करोड़ रुपये) निवेश किया है। सूत्रों के अनुसार फ्लिपकार्ट कर्मचारी शेयर विकल्प (ईसोप) के तहत दिए गए शेयर की पुनर्खरीद भी करेगी। यह करीब 600 करोड़ रुपये की होगी। इससे पहले, फ्लिपकार्ट ने पिछले साल 1.2 अरब डॉलर जुटाए थे और उस समय कंपनी का मूल्यांकन 24.9 अरब डॉलर आंका गया था। वालमार्ट ने 2018 में फ्लिपकार्ट में 77 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए 16 अरब डॉलर निवेश किया था। अब अमेरिकी कंपनी की हिस्सेदारी करीब 74 फीसदी हो जाने का अनुमान है। माना जा रहा है कि कंपनी आईपीओ लाने की तैयारी कर रही है। हालांकि उसने इसके लिये कोई समयसीमा नहीं बताई है।

फ्लिकार्ट के बयान के अनुसार वित्त पोषण के मौजूदा दौर में सॉवरेन फंड डिसरप्ट एडी, कतर इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी, खजाना नेशनल बरहाद के साथ ही चर्चित निवेशक विलुहबी कैपिटल, फ्रैंकलिन टेम्पलटन और टाइगर ग्लोबल ने भी भागीदारी की। वित्त पोषण के साथ फ्लिपकार्ट समूह का मूल्यांकन 37.6 अरब अमेरिकी डॉलर आंका गया। बयान के अनुसार वह ग्राहकों की बढ़ती मांग और जरूरतों को पूरा करने के लिए कर्मचारियों, प्रौद्योगिकी, आपूर्ति श्रृंखला और बुनियादी ढांचे में निवेश जारी रखेगी। इस सौदे के साथ सॉफ्टबैंक ने एक बार फिर फ्लिपकार्ट में निवेश किया है। इससे पहले जब 2018 में वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट में 77 फीसदी हिस्सेदारी हासिल की थी, तब सॉफ्टबैंक ने अपने करीब 20 फीसदी शेयर बेचे थे।

फ्लिपकार्ट समूह के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति ने कहा, ‘अग्रणी वैश्विक निवेशकों के ये निवेश भारत में डिजिटल कॉमर्स की संभावनाओं और सभी पक्षों के लिए इस क्षमता को अधिकतम स्तर पर ले जाने की फ्लिपकार्ट की क्षमताओं में उनके विश्वास को दर्शाता है। हम लाखों छोटे और मध्यम भारतीय व्यवसायों के विकास में तेजी लाने पर ध्यान केंद्रित करेंगे।’ उन्होंने कहा कि फ्लिपकार्ट नई श्रेणियों में निवेश जारी रखेगी और उपभोक्ताओं के अनुभवों को बदलने व विश्व स्तरीय आपूर्ति श्रृंखला विकसित करने के लिए भारत में निर्मित प्रौद्योगिकी का लाभ उठाएगी। अब फ्लिपकार्ट बाजार पूंजीकरण के लिहाज से 10 शीर्ष वैश्विक ई-कॉमर्स कंपनियों की श्रेणी में आ गई है। इसमें अमेजन और अलीबाबा जैसी कंपनियां शामिल हैं।