देश में वैक्सीनेशन का नया रिकॉर्ड – पांच दिन में दूसरी बार लगे एक करोड़ से ज्यादा टीके, अब तक दी गई 65 करोड़ डोज

399
covid19 vaccines available in India

देश में पांच दिनों में दूसरी बार मंगलवार को कोरोना रोधी टीकों की एक करोड़ से अधिक खुराक दी गई. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अब तक कुल 65 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने बताया कि शाम 6 बजे तक एक दिन में सर्वाधिक 1.09 करोड़ खुराक लगाने का रिकॉर्ड हासिल किया गया. उन्होंने पांच दिनों के अंदर दूसरी बार एक करोड़ से अधिक खुराक लगाये जाने की इस उपलब्धि के लिए पूरे देश की प्रशंसा की.

उन्होंने 50 करोड़ से अधिक पहली खुराक लगाये जाने की ऐतिहासिक उपलब्धि को हासिल करने में मदद पहुंचाने के लिए कोविड योद्धाओं एवं लोगों की लगन की भी तारीफ की. मंत्री ने ट्वीट किया, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के तहत एक अन्य उपलब्धि हासिल की गई. 50 करोड़ लोग कोविड 19 रोधी टीके की पहली खुराक ले चुके हैं. इस उपलब्धि को हासिल करने में मदद पहुंचाने के लिए कोविड योद्धाओं और लोगों की लगन की तारीफ करता हूं.’

उन्होंने लिखा, ‘बधाई, भारत ने आज कोविड 19 रोधी टीके की एक करोड़ खुराक लगायी. शाम छह बजे तक 1.09 करोड़ खुराक लगाने का एक दिन का सर्वाधिक रिकॉर्ड –गिनती अभी जारी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत कोरोना का जोरदार ढंग से मुकाबला कर रहा है.’

भारत को 10 करोड़ खुराक तक पहुंचने में 85 दिन लगे. उसे 20 करोड़ के आंकड़े तक पहुंचने में 45 दिन एवं 30 करोड़ तक पहुंचने में और 29 दिन लगे. देश को 40 करोड़ के आंकड़े तक पहुंचने में बाद के 24 दिन तथा 6 अगस्त को 50 करोड़ का आंकड़ा पार करने के लिए 20 और दिन लगे. उसने 25 अगस्त को 60 करोड़ का आंकड़ा पार करने के लिए 19 दिन और लिये. स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘भारत के कोविड-19 टीकाकरण ने आज 65 करोड़ (65,12,14,767) की ऐतिहासिक पड़ाव को पार कर लिया है.’

देश में 16 जनवरी को टीकाकरण अभियान शुरू किया गया था और इसकी शुरुआत स्वास्थ्यकर्मयों से की गई थी. फिर उसमें दो फरवरी से अग्रिम मोर्चा कर्मी शामिल किये गये. एक मार्च से अगले चरण में 60 साल के ऊपर के तथा अन्य गंभीर बीमारी से ग्रसित 45 साल के ऊपर के लोग शामिल किये गये. एक अप्रैल से इस अभियान में 45 साल से ऊपर के सभी लोगों को जोड़ लिया गया. फिर एक मई को टीकाकरण का विस्तार करके सरकार ने 18 साल से ऊपर के सभी व्यक्तियों को टीका लगाने का फैसला किया.