IPL टाइटल अधिकार ट्रांस्फर कर सकता है वीवो, ड्रीम 11 और अनअकैडमी दौड़ में में सबसे आगे

407

चीनी मोबाइल निर्माता कंपनी वीवो इंडियन प्रीमियर लीग में अपने टाइटल प्रायोजन अधिकार ट्रांस्फर कर सकता है जिसमें ड्रीम 11 और अनअकैडमी दौड़ में आगे मानी जा रही हैं। ड्रीम 11 आईपीएल 2020 का टाइटल प्रायोजक था, जिसने 220 करोड़ रुपये में अधिकार खरीदे थे। वीवो ने पांच साल के करार के लिए 440 करोड़ रुपये सालाना का करार किया था।

समझा जाता है कि भारत और चीन के राजनीतिक संबंधों में तनाव के मद्देनजर वीवो का मानना है कि यह साझेदारी जारी रखना बुद्धिमानी का फैसला नहीं होगा। बोर्ड के एक सूत्र ने बताया कि यह लगभग तय है कि वीवो का आईपीएल टाइटल प्रायोजन करार आपसी सहमति से खत्म होने जा रहा है। इसे 2020 में निलंबित किया गया था। इसका एक प्रावधान है कि वह अपना बकाया दायित्व नए प्रायोजक को दे सकता है।

हालांकि अगर बोर्ड सैद्धांतिक रूप से तैयार हो जाए, तभी यह संभव है। आईपीएल 2022 में नौ या दस टीमें होंगी और समझा जाता है कि नई बोली लगाने वाले को कम से कम तीन साल के टाइटल प्रायोजन अधिकार मिलेंगे। सूत्र ने कहा कि ड्रीम 11 और अनअकैडमी वीवो के सामने प्रस्ताव रखेंगे। अनअकैडमी सहायक प्रायोजक है और वीवो से अधिकार लेने के लिए बड़ी रकम चुकाने को तैयार है।