भाजपा का चुनाव आयोग से अपील – कमल नाथ की चुनावी सभाओं पर रोक लगाने का अनुरोध

453

मध्य प्रदेश भारतीय जनता पार्टी ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ को राज्य में उप चुनाव के दौरान चुनावी सभाओं और सार्वजनिक सभाओं पर रोक लगाने का अनुरोध किया।

गौरतलब है कि चुनाव आयोग ने पिछले दिनों कहा था कि मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा की एक महिला प्रत्याशी के खिलाफ ‘अशोभनीय’ शब्द का इस्तेमाल कर प्रचार संबंधी आचार संहिता का उल्लंघन किया है। आयोग ने आदर्श आचार संहिता के लागू होने के दौरान वैसे शब्दों का प्रयोग नहीं करने की सलाह दी है।

कुछ दिन पूर्व एक चुनावी रैली में कमल नाथ ने डबरा से भाजपा प्रत्याशी व मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह सरकार में मंत्री इमरती देवी के खिलाफ अशोभनीय टिप्पणी की थी। इस पर सत्तारूढ़ दल भाजपा ने तीखी प्रतिक्रिया दी थी और चुनाव आयोग को शिकायत की थी। राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी इस बात का संज्ञान लिया था। इसके बाद आयोग ने कमल नाथ को नोटिस जारी किया था।

वहीं, इस मुद्दे पर भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कमल नाथ को घेरा है। उन्होंने कहा ‘राजनीति का भी एक स्तर होना चाहिए। जिस निम्न स्तर पर इस चुनाव को कमल नाथ जी और अजय सिंह जी ले गए हैं वह सिर्फ दुर्भाग्यपूर्ण नहीं बल्कि शर्मनाक भी है।’

इस बयान पर राजनीति गरमाने के बाद कमलनाथ ने सफाई देते हुए कहा था कि उन्‍होंने किसी का अपमान करने के उद्देश्य से ऐसा नहीं कहा था। वह दरअसल, उनका (इमरती देवी) का नाम भूल गए थे। फिर एक शख्स के हाथ में कागज की तरफ इशारा करते हुए वो बोले कि यह हमारी लिस्ट है, जिसमें आइटम नं.1, आइटम नं. 2 लिखा है। क्या यह किसी का अपमान है? शिवराज मौका ढूंढ़ रहे हैं, लेकिन कमलनाथ किसी का अपमान नहीं करता।