BJP Manifesto 2022: भाजपा ने जारी किया घोषणापत्र, उत्तर प्रदेश को देश की नंबर एक अर्थव्यवस्था बनाने का लिया संकल्प

681
BJP Manifesto 2022

यूपी विधानसभा चुनाव में 10 फरवरी को प्रथम चरण का मतदान होना है, इससे पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए आज भारतीय जनता पार्टी का घोषणा पत्र ‘लोक कल्याण संकल्प पत्र’ जारी कर दिया. अपने घोषणापत्र के साथ-साथ भाजपा ने ‘कर के दिखाया है’ नाम से एक चुनावी गाना भी लॉन्च किया. इस गाने में दावा किया जा रहा है कि बीजेपी वादे पूरे करके दिखाए और राज्य में बीजेपी ही आएगी.

इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भाजपा ने अगले 5 सालों के लिए उत्तर प्रदेश के 25 करोड़ नागरिकों के जीवन में परिवर्तन करने के अपने लक्ष्य को लेकर अपना नया लोक कल्याण सकंल्प पत्र जारी किया है. उन्होंने कहा कि आज जब उत्तर प्रदेश में भाजपा के 5 साल बीत रहे हैं तो हम कह सकते हैं कि आज उत्तर प्रदेश में कानून का राज है. आज हर बहन, बेटी अपने आप को सुरक्षित महसूस कर सकती है.

किसानों के लिए बीजेपी ने वादा किया है कि किसानों को सिंचाई के लिए मुफ्त बिजली दी जाएगी। जिससे हमारे प्रदेश का किसान और सशक्त बनेगा।लोक कल्याण संकल्प पत्र में ₹5,000 करोड़ से मुख्यमंत्री कृषि सिचाई योजना शरू की जाएगी, जिससे छोटे किसानों के लिए बोरवले , ट्यूबवले , तालाब एवं टैंक निर्माण के लिए अनुदान दिया जाएगा. अमित शाह ने बताया कि इस बात का ख्याल रखा गया है कि आने वाले सालों में उत्तर प्रदेश तरक्की के मामले में देश में शीर्ष स्थान पर हो. पिछले 5 सालों में भाजपा सरकार ने इसके लिए भरपूर प्रयास भी किया गया है.

5000 करोड़ की लागत के साथ गन्ना मिल नवीनीकरण मिशन के अंतर्गत मिलो का नवीनीकरण एवं आधुनिकरण करेंगे साथ ही स्थानीय मांगने अनुसार प्रदेश में नई सहकारी चीनी मिल स्थापित करेंगे.

गन्ना किसानों को 14 दिनों के भीतर भुगतान मिलो से देरी होने पर मिलो से ब्याज वसूल कर ब्याज समेत किसानों को भुगतान. लोक कल्याण संकल्प पत्र में भाजपा ने संकल्प लिया कि ₹ 5000 करोड़ के कोष के साथ मिशन आत्मनिर्भर एसएचजी (SHG) की शुरूआत होगी, जिसके अंतर्गत 5 लाख नए महिला एसएचजी बनाई जाएं.

भाजपा ने वादा किया है कि प्रत्येक ग्राम पंचायत में नियमित रूप से गरीब कल्याण मेला आयोजित किए जाएं, जिसके माध्यम से सभी सरकारी योजनाओं का लाभ ज्यादा से ज्यादा प्रदेशवासियों तक पहुंच सके। बीजेपी के संकल्प पत्र के अनुसार प्रदेश की भाषाओं में शोध को बढ़ावा देने के लिए सूरदास ब्रजभाषा अकादमी, गोस्वामी तुलसीदास अवधी अकादमी, केशवदास बुंदेली अकादमी एवं संत कबीर दास भोजपुरी अकादमी स्थापित की जाएंगी.