हिरासत में लिए गए पत्रकार अर्नब गोस्‍वामी, जानें क्या है 2018 का वह मामला, जिसके चलते मुंबई पुलिस ने किया गिरफ्तार

    428

    अर्नब गोस्वामी की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। मुंबई पुलिस ने उन्‍हें उनके घर से हिरासत में ले लिया हे। अर्नब ने मुंबई पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। अर्नब का कहना है कि पुलिस ने उनके साथ-साथ घर के अन्‍य सदस्‍यों सास-ससुर, बेटे और पत्नी के साथ भी मारपीट की है। रिपब्लिक टीवी ने अर्नब के घर के लाइव फुटेज भी दिखाए, जिसमें पुलिस और अर्नब के बीच झड़प होती दिख रही है। पुलिस ने अर्नब गोस्‍वामी को दो साल पुराने इंटीरियर डिजाइनर की आत्महत्या के मामले में गिरफ्तार किया है। पिछले दिनों इस मामलें में फिर से जांच के आदेश दिए गए थे।

    अर्नब गोस्‍वामी को हिरासत में लिए जाने पर राजनीति भी शुरू हो गई है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर इसे प्रेस की स्‍वतंत्रता पर हमला करार दिया है। उन्‍होंने ट्वीट किया, ‘मुंबई में प्रेस-पत्रकारिता पर जो हमला हुआ है वह निंदनीय है। यह इमरजेंसी की तरह ही महाराष्ट्र सरकार की कार्यवाही है। हम इसकी भर्त्सना करते हैं। सोनिया गांधी और राहुल गाँधी के नेतृत्व में काम कर रही कांग्रेस अभी भी आपातकालीन मनस्तिथि में है। इसी का सबूत आज महाराष्ट्र में उनकी सरकार ने दिखाया है। लोग ही इसका लोकतांत्रिक जवाब देंगे।’

    दरअसल, यह मामला 2018 का है, जब एक 53 वर्षीय इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद नाइक ने मई 2018 में अलीबाग में आत्महत्या कर ली थी। इस घटना के बाद एक सुसाइड नोट मिला था, जो कथिततौर पर अन्वय द्वारा लिखा गया था। इस सुसाइड नोट में उन्होंने कहा था कि अर्नब गोस्वामी और दो अन्य ने उन्हें 5.40 करोड़ रुपये का भुगतान नहीं किया, जिसकी वजह से उन्हें आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ा।