ब्रिसबेन टेस्ट को लेकर एंड्रयू सायमंड ने बीसीसीआई पर साधा निशाना, कहा अपनी बात को मनवाना उनके सत्ता का एक हिस्सा

177

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई भारतीय टीम को लेकर एक नया विवाद शुरू हो गया है। दोनों टीमें इस समय चार टेस्ट मैचों की सीरीज खेल रही है। सीरीज में अबतक दो मुकाबले खेले जा चुके हैं और तीसरा मैच 7 जनवरी से सिडनी में खेला जाएगा। वहीं चौथे मैच का शेड्यूल ब्रिसबेन में है।

इस बीच टीम इंडिया के खिलाड़ी ब्रिसबेन की क्वींसलैंड सरकार द्वारा जारी किए गए कोरोना वायरस से संबंधित कड़े नियमों का हवाला देते हुए वहां जाने को लेकर असमंजस है। वहीं ब्रिसबेन की सरकार ने साफ तौर पर यह कह दिया है कि अगर भारतीय टीम यहां के नियमों का पालन नहीं करती है तो वह यहां नहीं आए। नियम सबके उपर बराबर लागू होगा।

क्वींसलैंड सरकार के इस बयान के बाद अब ऑस्ट्रेलिया के पूर्व ऑलराउंडर एंड्रयू सायमंड ने भी बीसीसीआई और टीम इंडिया पर निशाना साधा है। सायमंड ने फॉक्स क्रिकेट से बात करते हुए कहा, ”आपने कभी बीसीसीआई को समझौता करते हुए देखा है ? वे सोचते हैं कि लोगों से अपनी बात को मनवाना उनके सत्ता का एक हिस्सा है। अब देखना होगा कि क्या क्वींसलैंड की सरकार उन्हें अपने मन की करने की अनुमति देती है या नहीं।”

वहीं अब देखना यह होगा कि इस भारतीय टीम की तरफ से कोई प्रतिक्रिया आती है या नहीं।

आपको बता दें कि इस विवाद को एक और नया रूप तब मिल गया जब पांच भारतीय क्रिकेटरों के द्वारा सिडनी में बायो बबल सुरक्षा घेरे को तोड़ने का मामला प्रकाश में आया। दरअसल सिडनी टेस्ट से पहले रोहित शर्मा, ऋषभ पंत, शुभमन गिल, पृथ्वी शॉ और नवदीप सैनी खाना खाने एक रेस्त्रां में गए थे।

इस दौरान उनके खाने का बिल एक भारतीय फैंस ने अदा किया और इसके बाद पंत ने शुक्रिया कहने के लिए उस फैंस को गले लगाया। इसके बाद से यह मामला मीडिया में तूल पकड़ लिया।

इस मामले को बढ़ते देख एतिहात के तौर पर इन पांचों खिलाड़ियों को होटल के कमरे में क्वारंटीन कर दिया गया। हालांकि बाद में जब इन खिलाड़ियों का कोरोना टेस्ट कराया गया तो इनकी रिपोर्ट निगेटिव आई है।