केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज आएंगे उत्‍तराखंड, आपदा से नुकसान की करेंगे समीक्षा

    260

    गृहमंत्री अमित शाह आज शाम उत्तराखंड जाएंगे. राहत बचाव कार्य की समीक्षा बैठक करेंगे. एनडीआरएफ के साथ सभी एजेन्सी के अधिकारी रहेंगे. मौजूदा हालत पर नजर होगी, केंद्र ने राज्य सरकार को हर संभव मदद देने का वादा भी किया है. वहां वे देर शाम सीएम, उत्तराखंड के अधिकारियों, आईटीबीपी, एनडीआरएफ के अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे. कल प्रदेश के बाढ़ग्रस्त इलाकों का एरियल सर्वे करेंगे और बारिश और लैंड स्लाइड से हुए नुकसान का जायजा लेंगे.

    उत्‍तराखंड में आफत की बारिश से कुमाऊं मंडल में तबाही मची. इस आपदा में अब तक 42 लोगों की मौत हो चुकी है. इसमें सबसे ज्‍यादा 29 लोग नैनीताल जनपद से हैं. बारिश से काली, गोरी, सरयू, गोमती, शारदा, कोसी और गौला नदियां उफान पर हैं. कुमाऊं में छह हाईवे समेत 92 स्‍टेट हाईवे बंद हैं. राहत और बचाव कार्य जारी है.मुख्यमंत्री धामी ने वर्षा प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया और प्रभावित लोगों से बातचीत किया ताकि क्षति का आकलन किया जा सके. उन्होंने राज्य में पिछले दो दिनों में वर्षाजनित घटनाओं में मारे गए लोगों के परिजन को चार-चार लाख रुपये मुआवजा देने की भी घोषणा की.

    पीएम मोदी ने फोन पर लिया जायजा
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी फोन पर धामी से बात की और स्थिति का जायजा लिया तथा हरसंभव सहायता का आश्वासन दिया. मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के साथ कुमाऊं क्षेत्र में वर्षा प्रभावित इलाकों का दौरा करने गए पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने कहा कि नैनीताल के काठगोदाम और लालकुआं तथा ऊधम सिंह नगर के रुद्रपुर में सड़कों, पुलों और रेल पटरियों को नुकसान पहुंचा हैं. कुमार ने कहा कि क्षतिग्रस्त पटरियों को ठीक करने में कम से कम चार-पांच दिन लगेंगे.

    मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लोगों से की अपील
    रामनगर में आर्मी के हेलीकॉप्टर की मदद से दो दर्जन से ज्यादा गांव वालों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जा चुका है. पंतनगर में तीन जगहों पर फंसे 25 लोगों को रेस्कयू करने के लिये वायु सेना को ध्रुव हेलीकॉप्टर की मदद लेनी पड़ी. कई भूस्खलनों के कारण नैनीताल तक जाने वाली सड़कों पर मलबा आने की वजह से पर्यटक स्थल का राज्य के बाकी हिस्सों से संपर्क टूट गया है.उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लोगों से न घबराने की अपील करते हुए कहा कि उन्हें सुरक्षित बाहर निकालने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं. साथ ही चार धाम यात्रियों से फिर अपील करते हुए कहा कि वे मौसम में सुधार होने तक जहां हैं, वहीं रुके रहें.