अमेरिका और चीन के राष्ट्रपति की वर्चुअल मीटिंग, शी ने बाइडेन से कहा- दोनों देशों को एक-दूसरे का सम्मान करना चाहिए

285

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच करीब साढ़ें तीन घंटे वर्चुअल बैठक चली. शी चिनफिंग ने अपने अमेरिकी समकक्ष जो बाइडेन से बैठक में कहा कि चीन और अमेरिका को एक-दूसरे का सम्मान करना चाहिए, शांति के साथ सह-अस्तित्व कायम करना चाहिए और दोनों पक्षों के फायदे के पथ पर आगे बढ़ना चाहिए. शी ने एक मजबूत और स्थिर चीन-अमेरिका संबंध विकसित करने का आह्वान किया. द्विपक्षीय संबंधों को सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ाने के लिए आम सहमति कायम करने और सक्रिय कदम उठाने के लिए बाइडेन के साथ काम करने की इच्छा भी व्यक्त की.

शुरुआती भाषण में बाइडेन ने कहा है कि दोनों देशों के बीच प्रतिस्पर्धा कहीं टकराव में न बदल जाए, इसका ध्यान रखना होगा. राष्ट्रपति जिनपिंग ने कहा कि दोनों मुल्कों को आपसी संवाद सुधारने पर ध्यान देना चाहिए. बाइडेन ने कहा, ‘‘चीन और अमेरिका के नेता होने के नाते यह सुनिश्चित करना हमारी जिम्मेदारी होती है कि हमारे देशों के बीच जो प्रतिस्पर्धा है वह टकराव में न बदले…. इसकी बजाय यह सरल एवं सीधी प्रतिस्पर्धा रहे.’’ जिनपिंग ने भाषण में बाइडेन को पुराना मित्र बताते हुए संबोधित किया. इससे पहले 2013 में तत्कालीन उपराष्ट्रपति बाइडेन की चीन यात्रा के दौरान चिनफिंग ने उन्हें ‘पुराना मित्र’ बताया था जबकि बाइडेन ने दोनों की ‘दोस्ती’ के बारे में बात की थी.

बाइडेन यह बैठक ऑनलाइन करने की बजाय शी से आमने-सामने मिलना चाहते थे, लेकिन चीन के राष्ट्रपति कोविड-19 वैश्विक महामारी के मामले सामने आने से कुछ समय पहले से ही देश से बाहर कहीं नहीं गए हैं. व्हाइट हाउस ने ही फिर ऑनलाइन बैठक का प्रस्ताव दिया, ताकि दोनों नेता संबंधों में तनाव के बारे में स्पष्ट बातचीत कर पाएं.

व्हाइट हाउस के अधिकारियों को बैठक से ज्यादा उम्मीदें नहीं
बाइडेन और उनके चीनी समकक्ष शी चिनफिंग के बीच चल रही बैठक को लेकर व्हाइट हाउस के अधिकारियों को ज्यादा उम्मीदें नहीं हैं. व्हाइट हाउस के अधिकारियों ने कहा कि किसी बड़ी घोषणा की संभावना नहीं है और दोनों देशों द्वारा संयुक्त बयान जारी करने की भी कोई योजना नहीं है. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने कहा, “उन्हें लगता है कि उनके रिश्ते का इतिहास, उनके साथ समय बिताने के बाद, उन्हें काफी स्पष्टवादी होने की अनुमति देता है और यह आगे भी जारी रहेगा.”

अमेरिका से संबंधों को सही रास्ते पर लाने को कहेंगे: चीन
चीनी मीडिया के अनुसार, चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग इस बैठक में बाइडेन को “ताइवान कार्ड” के साथ आगे नहीं बढ़ने को कहेंगे क्योंकि बीजिंग ने अलग हुए स्वशासी द्वीप के मुख्य भूमि के साथ एकीकरण करने का दबाव बनाए रखा है जो अब चीनी राष्ट्रपति का मुख्य राजनीतिक मुद्दा बन गया है. 

शिखर सम्मेलन से पहले, चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने सोमवार को एक मीडिया ब्रीफिंग में कहा कि चीन अमेरिका से संबंधों को स्थिर विकास के सही रास्ते पर लाने के लिए कहेगा. झाओ ने कहा कि शी-बाइडेन चीन-अमेरिका संबंधों के भविष्य और आम चिंता के प्रमुख मुद्दों के संबंध में रणनीतिक मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे.