अफगानिस्तान में महासंकट: राजधानी हारने की कगार पर अफगान सरकार, हर तरफ से काबुल में घुस रहे तालिबानी, जलालाबाद पर भी किया कब्जा

469

अफगानिस्तान में तालिबानी कहर के बीच अब राजधानी काबुल भी सरकार के हाथों से फिसलती दिख रही है। अफगानिस्तान के तीन अधिकारियों ने बताया है कि तालिबानी राजधानी काबुल के बाहरी इलाके तक पहुंच गए हैं। आज सुबह ही तालिबान ने जलालाबाद पर कब्जा किया, जिसके बाद से ही काबुल पर खतरा और बढ़ गया था। समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, अफगान आंतरिक मंत्रालय ने रविवार को कहा कि तालिबान ने अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में हर तरफ से घुसना शुरू कर दिया है।

पहचान जाहिर न करने की शर्त पर अफघानिस्तान के अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल इस इलाके में किसी तरह का संघर्ष नहीं हो रहा है। तालिबान के लड़ाके कलाकन, काराबाघ और पघमन जिलों में घुस गए थे। हालांकि, अभी तक तालिबान ने काबुल पर कब्जे का ऐलान नहीं किया है। हालांकि, रविवार को हेलीकॉप्टरों के मंडराने के बाद सरकारी दफ्तरों ने अचानक ही अपने कर्मचारियों को जल्दी घर भेजना शुरू कर दिया था।

इससे पहले तालिबान ने रविवार को ही काबुल के बाहर आखिरी बड़े शहर जलालाबाद पर कब्जा कर लिया था। जलालाबाद के जाने के बाद से ही काबुल के अलावा देश की सिर्फ 6 प्रांतीय राजधानियां ही हैं, जिनपर काबुल का कब्जा नहीं है। अफगानिस्तान में कुल 34 प्रांत हैं।

उधर, अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा ने वहां मौजूद अपने राजनयिक स्टाफ की मदद के लिए सैनिकों को भेजा है। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने अफगानिस्तान से अमेरिकी बलों की व्यवस्थित एवं सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए युद्धग्रस्त देश में 5,000 बलों की तैनाती का आदेश दिया है।