आदित्य ठाकरे ने साधा बीजेपी पर निशाना – जिसे हम दोस्त समझते थे वो दुश्मन निकला

183
Aditya Thackeray
Aditya Thackeray

शिवसेना नेता और उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने बीजेपी पर निशाना साधा है. उन्होंने आजतक को दिए गए एक इंटरव्यू में कहा कि जिसे हम दोस्त समझते थे वो दुश्मन निकला.विपक्ष पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि मैंने कभी ये नहीं सोचा था कि निजी टिप्पणियों को लेकर ये लोग इस हद तक जाएंगे, हम ऐसी चीजों में कभी शामिल नहीं रहे हैं. लेकिन ठीक है, जनता सब देख रही है.
एक चैनल ने आदित्य ठाकरे से सवाल किया कि, क्या आपको लगा था कि जिनके साथ आपने इतने साल काम किया, जिनके साथ सरकार चलाई. आज आपके सामने खड़े हैं. अब क्या वो पहले के रिश्ते खत्म हो चुके हैं? क्या अब शिवसेना के बीजेपी के साथ कोई रिश्ता नहीं बन पाएगा, ये हम मानकर चलें? राजनीति में कभी भी कहीं भी कोई भी ट्विस्ट और टर्न आ सकता है, यहां भी ऐसा कुछ हो सकता है?

इस पर आदित्य ठाकरे ने कहा कि, ”हमने कभी भी किसी से दुश्मनी नहीं की है, हमने कभी निजी बदला किसी से नहीं लिया है. ना कभी किसी के परिवार के बारे में या निजी आरोप लगाए हैं. समीकरण बदले हुए हैं, जहां हमें विश्वास मिला, जहां हमें दोस्ती का एक हाथ मिला, जिसे हम दोस्त समझते थे वो हमें दुश्मन समझने लगा. जिसें हम विपक्ष समझते थे, वो हमारे साथ दोस्ती में आगे आया और महाराष्ट्र के लिए अच्छा करने लगा. ये एक नया समीकरण बना है. उसे ही हम आगे लेकर जाएंगे. महाराष्ट्र और देश के लिए अच्छा करेंगे”

आदित्य ने कई और सवालों के जवाब दिए. बीजेपी नेताओं के महाअघाड़ी सरकार के अगले दो-तीन महीने में गिर जाने के दावे पर आदित्य ने कहा कि, विपक्ष के नेता दिन में सपने देख रहे हैं, उन्हें देखने दीजिए. गठबंधन वाली ये सरकार चलेगी ही नहीं बल्कि पांच साल का कार्यकाल भी पूरा करेगी.

बीजेपी पर निशाना साधते हुए आदित्य ने कहा कि बीजेपी पीडीपी के साथ गठबंधन कर सकती है, बिहार में जदयू के साथ गठबंधन कर सकती है, बीजेपी अलग-अलग पार्टियों के साथ गठबंधन कर सकती है और दूसरों को हिंदुत्व के नाम पर सर्टिफिकेट दे सकती है. शिवसेना भावनाओं पर चलती है. हर शिवसैनिक हमारा परिवार है. जहां विश्वासघात हो उस रास्ते पर हम कभी नहीं चलेंगे. जहां हमें प्यार मिलेगा और महाराष्ट्र के लिए अच्छा होगा, हम उस रास्ते पर जरूर चलेंगे.

कंगना मामले पर बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले के सवाल पर आदित्य ने कहा कि हम हाई कोर्ट के आदेश का पालन करेंगे लेकिन इससे एक चीज साफ है कि हम महाराष्ट्र और मुंबई का अपमान बिल्कुल नहीं सहेंगे. आरे मेट्रो कार शेड प्रोजेक्ट को लेकर आदित्य ने कहा कि यह फैसला जानबूझकर लिया गया था. अगर वो इसे अनुभव की कमी कहते हैं तो कहने दीजिए. यह हमारे लिए उपलब्धि है. हम आगे के पचास साल के विकास को सोचकर चल रहे हैं.