आदित्य नारायण ने नेपोटिज़म को लेकर दिया बयान कहा , उदित नारायण का बेटा हूं लेकिन आउटसाइडर की तरह मांगता हूं काम

248

आदित्य नारायण ने अपने करियर में कई गाने गाए हैं और कई हिट शो होस्ट भी किए हैं. लेकिन फिर भी उन्हें वो सफलता नहीं मिली है जिसके वे सपने देखा करते थे. सिंगर ने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की,लेकिन जब भी उनकी तुलना उदित नारायण से हुई, वो उस रेस में पीछे छूट गए. अब आदित्य ने अपने संघर्ष के बारे में बात की है.

आदित्य ने किया खूब संघर्ष

एक न्यूज पोर्टल को दिए इंटरव्यू में आदित्य ने बताया है कि उन्हें 6 साल तक कोई काम नहीं मिला था. ये हाल तब था जब उन्होंने संजय लीला भंसाली की फिल्म रामलीला में हिट गाना गाया था. इस बारे में वे कहते हैं- राम लीला के बाद मैं कई म्यूजिक डायरेक्टर्स से मिला था. प्रीतम, विशाल शेखर, शंकर एहसान लॉय से मुलाकात के बावजूद मुझे कोई काम नहीं मिला. मुझे 6 साल तक कोई काम नहीं दिया गया. इंटरव्यू में आदित्य ने इस बात का भी जिक्र किया कि स्टार किड का उन्हें कोई फायदा नहीं मिला. वे कहते हैं- मुझे तो 25 साल बाद काम मिलना शुरू हुआ था. मुझे पिछले साल ए आर रहमान ने बुलाया था. ये मौका भी 20 साल बाद आया था. विशाल-शेखर को भी 18 की उम्र से जानता हूं, लेकिन मुझे काम नहीं दिया गया.

प्लेबैक सिंगर बनने का सपना

अब इस बात में तो कोई दोराय नहीं कि इस समय आदित्य को लोग सिंगर नहीं बल्कि एक होस्ट के रूप में जानते हैं. हर कोई उन्हें बतौर होस्त ही पसंद करता है. लेकिन अपनी इसी इमेज को बदलने के लिए वे लगातार गाने की कोशिश कर रहे हैं. वे एक सफल प्लेबैक सिंगर बनने के सपने देखते हैं. हाल ही में उन्होंने उदित नारायण संग अपना गाना Tere Bagair रिलीज किया है. उसे दर्शकों का अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है.