एमपी : सिंध नदी का पानी कम होने के बाद पचावली गांव में मिले साल 1862 के चांदी के सिक्के, मची लूटमार

311

भारी बारिश के कारण सुर्खियों में रहा गुना संसदीय क्षेत्र एक बार फिर खबरों में है. इस बार ये जिला नदी किनारे चांदी के सिक्कों के मिलने के कारण सुर्खियों में है. गुना, अशोकनगर जिलों में दो दिन पहले हुई भारी बारिश के कारण सिंध नदी उफान पर थी. जिसके बाद आज यानी रविवार सुबह सिंध नदी का पानी कम हो गया. पानी कम होने के बाद पचावली गांव मे सिंध नदी किनारे ग्रामीणों को चांदी के सिक्के मिलने की खबर सामने आई है.

दरअसल गांव में नदी किनारे चांदी के सिक्के मिलने से जुड़ी गई वीडियो भी सामने आ रही हैं, जिनमें कुछ युवक हाथ में चांदी के सिक्के लिए दिखाई दे रहे हैं. वहीं जब यह खबर गांव मे फैली तो पूरा गांव खुदाई मे जुट गया. वीडियोज में नदी किनारे चांदी के सिक्कों की तलाश करते हुए युवक भी देखे जा सकते हैं.

एक वीडियो में युवक के हाथ में दो चांदी के सिक्के देखे जा सकते हैं. ये सिक्का 1862 का एक रुपए का सिक्का है, जिसकी दूसरी तरफ क्वीन विक्टोरिया की तस्वीर है. पुलिस को इस मामले की जानकारी मिली तो सूचना पाकर पुलिस की टीम मौके पर पहुंची, लेकिन पुलिस के हाथ कुछ नही लग सका. इसके बाद पुलिस गांव मे जाकर जिन लोगों को सिक्के मिले हैं, उन लोगों से पूछताछ कर रही है.

इस घटना को लेकर कोलारस के एसडीओपी अमरनाथ वर्मा का कहना है कि गांव में नदी किनारे सिक्के मिलने की खबर मिली, जिसके बाद थाना प्राभारी को मौके पर भेजा गया. उन्होंने बताया कि फिलहाल सिक्के मिलने का तोई सबूत तो नहीं मिला है, लेकिन लोगों में सिक्के मिलने की चर्चा जरूर है. एसडीओपी ने कहा कि अगर ऐसा कुछ मिलता है तो प्रशासन कार्रवाई करेगा.

वर्मा ने आगे कहा कि बाढ़ जैसे हालात बनने के बाद अभी भी गांव में खतरा बना हुआ है. ऐसे में नदी किनारे सुरक्षा के मद्देनजर अतिरिक्त बल तैनात किया गया है. बताया जा रहा है कि सिंध नदी मे बाढ़ आने के कारण आस-पास की मिट्टी हट गई थी, जिसके चलते जमीन मे गड़े चांदी के बाहर आ गए और यही सिक्के लोगों को मिले. पचावली गांव में सिंध नदी के मुहाने पर मिले चांदी के सिक्कों की खबर ने फिलहाल सबको हैरत मैं डाल दिया है.