क्या बदल जायेगा शान-ए-अवध का नाम? लखनऊ का नाम बदलने के लिए बीजेपी सांसद ने लिखा पत्र..

155
bhn
bhn

बीजेपी सांसद संगम लाल गुप्ता ने लखनऊ का नाम बदलने की मांग की है. उन्होंने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी , गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है. बीजेपी सांसद की मांग है कि लखनऊ का नाम बदल कर लक्ष्मणपुर किया जाए. उन्होंने पत्र में लिखा है कि 18वीं सदी में नवाब आसफुदौला ने लखनपुर और लक्ष्मणपुर का नाम बदलकर लखनऊ रख दिया था जिसको बदला जाए. संगम लाल गुप्ता ने पत्र में कहा है कि त्रेता युग में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम ने बतौर अयोध्या नरेश श्री लक्ष्मण जी को भेंट दिया था, उसी कारण उसका नाम लखनऊ पड़ा. सांसद का कहना है कि देश अमृत कालखंड में प्रवेश कर चुका है तो गुलामी और विलासिता के प्रतीक लखनऊ को परिवर्तित किया जाए.

पहले भी जनपद और तहसील के बदले गए नाम

प्रदेश में इससे पहले भी कई जनपदों के नाम बदले गए हैं. 2017 में प्रदेश की सत्ता मिलने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ के राज में मुगलसराय स्टेशन को नया नाम मिला. प्रदेश सरकार के प्रस्ताव को केंद्र सरकार की मंजूरी मिलने के बाद अगस्त 2018 में मुगलसराय स्टेशन को पंडित दीन दयाल उपाध्याय स्टेशन नाम दिया गया. योगी कैबिनेट ने मुगलसराय तहसील का नाम भी बदल कर योगी पंडित दीन दयाल उपाध्याय तहसील कर दिया था. इसी तरह योगी कैबिनेट ने फैजाबाद जिले को अयोध्या नाम दिया है.

लखनऊ से जुड़ी मान्यता

ऐसी मान्यता है कि लखनऊ को भगवान श्री राम के छोटे भाई लक्ष्मण ने बसाया था. बीजेपी के कद्दावर नेता और लखनऊ से सांसद रहे, पूर्व मंत्री लालजी टंडन ने अपनी एक किताब में लखनऊ को लक्ष्मण नगरी बताया है. प्रदेश की राजधानी में लक्ष्मण टीला, लक्ष्मण पुरी, लक्ष्मण पार्क समेत कई ऐसी जगह हैं जो लक्ष्मण के नाम पर हैं.