इंडिया के क्षेत्रफल से दोगुना है समुद्री जंगल का आकार, नए अध्ययन में आया सामने

736
oceanic forest
oceanic forest

अमेजन, बोर्नियो, कॉन्गो, डेनट्री. ये विश्व के सबसे बड़े और मशहूर वर्षावनों में से एक हैं. कभी आप ने समुद्र के अंदर किसी जंगल के बारे में सुना है. दुनिया में कई स्थानों पर समुद्र के अंदर जंगल मौजूद हैं. जिनका हाल ही में नक्शा बनाया गया है. इन सभी जंगलों का आकार देखेंगे तो ये भारत के क्षेत्रफल से दोगुने निकलेंगे.  बड़े-बड़े जंगल भी हैं. रूस से लेकर कनाडा तक फैले हुए बोरियल जंगल. लेकिन आपको पानी के अंदर मौजूद कितने जंगलों के बारे में पता है. समुद्रों के अंदर बड़े-बड़े केल्प और समुद्री वीड के जंगल हैं. जैसा पहले सोचा गया था, उससे कई गुना बड़े और घने. इनके अंदर बड़े पैमाने पर विभिन्न प्रकार के समुद्री जीव-जंतुओं की प्रजातियों रहती हैं. दक्षिण अफ्रीका के तटों के नीचे ग्रेट अफ्रीकन सीफॉरेस्ट और ऑस्ट्रेलिया के पास ग्रेट साउदर्न रीफ मौजूद है. विश्वभर के समुद्रों के अंदर ऐसे न जाने कितने जंगल हैं, जिनके न तो कोई नाम है. न ही कोई पहचानता है. एक नए अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है कि विश्वभर में इस तरह के कितने जंगल हैं. इनका नक्शा भी बनाया गया है. जो आपको यहां देखने को मिलेगा. यह स्टडी ग्लोबल इकोलॉजी एंड बायोजियोग्राफी जर्नल में प्रकाशित हुई है.

इस अध्ययन में यह बताया गया है कि सिर्फ धरती पर पाए जाने वाल़े जंगल ही गर्म तापमान की वजह नहीं जल रहे हैं. समुद्र के अंदर भी ज्यादा तापमान की वजह से जंगल जल रहे हैं. अब आप सोच रहे होंगे कि पानी के अंदर कैसे कुछ जल सकता है. लेकिन समुद्रों के बढ़ते तापमान की वजह से इन जंगलों की इकोलॉजी खराब हो रही है. जलवायु परिवर्तन की वजह से उनके विकसित होने और कार्बन को सोखने की क्षमता कम होती जा रही है. इन समुद्री जंगलों में समुद्री बांस और समुद्री घास भी पाई जाती है. समुद्री बांस जमीन पर मिलने वाले बांस की तरह ही लंबे होते हैं. जबकि समुद्री घास गैसों से भरी आकृतियां होती हैं, जो गुब्बारे जैसी होती हैं. ये जंगल में फैल कर गैसों, ऑक्सीजन और कार्बन डाईऑक्साइड का संतुलन बनाते हैं. इनके तने बहुत मजबूत होते हैं, ताकि ये समुद्री लहरों के बर्दाश्त करते हुए सूरज की रोशनी की तरफ बढ़ सकें. जैसे ऑस्ट्रेलिया के ग्रेट साउदर्न रीफ में फैले हुए गोल्डेन केल्प करते हैं. 

धरती पर पैदा होने वाली 2400 गीगाटन ग्रीनहाउस गैसों से निकलने वाली सारी अत्यधिक गर्मी हमारे समुद्र सोखते हैं. ऐसे में समुद्री जंगलों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. ये सभी समुद्री जंगल जल रहे हैं. जैसे जमीन पर जंगलों में आग लगती है. ठीक वैसी नहीं लेकिन अधिक तापमान की वजह से उनकी हालत खराब हो रहा है. सबसे बुरी हालत पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया, पूर्वी कनाडा और कैलिफोर्निया के समुद्री जंगलों की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here