जल्द ही देश के चुनिंदा रूट पर 151 नई प्राइवेट ट्रेन दौड़ना शुरू कर देंगी, यात्रियों को मिलेगी ये सुविधाएं, इन कंपनियों को मिलेगा मौका

343

भारतीय रेलवे के अनुसार प्राइवेट ट्रेन के संचालन के लिए दो तरीके से टेंडर आमंत्रित किए गए है. जिसमें पहला रिक्वेस्ट फॉर क्वालिफिकेशन है. इसमें बोली लगाने वाले प्राइवेट यूनिट की पात्रता तय होगी. और दूसरा रेवेन्यू और रूट्स के बारे में बाद की प्रक्रिया में निर्णय किया जाएगा.

रेलवे के अनुसार प्राइवेट ट्रेनों का परिचालन भारतीय रेलवे के पायलट और गार्ड करेंगे. वहीं इस योजना में प्राइवेट कंपनी इन ट्रेन को संचालित करने और समय पर गंतव्य तक पहुंचने की व्यवस्था संभालेंगे. आपको बता दें अभी तक भारतीय रेलवे ने प्राइवेट ट्रेन चलाने के लिए IRCTC, GMR Highways Ltd, Gateway Rail Freight Ltd, IRB Infrastructures Developers, Welspun Enterprise Ltd कंपनी के नाम फाइनल किए हैं.

रेलवे के अनुसार प्राइवेट ट्रेन में यात्रियों को एयरलाइन जैसी सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी. जिसमें प्राइवेट कंपनी ट्रेनों का किराया, खानपान, साफ-सफाई और बिस्तरों की आपूर्ति करेंगी सुनिश्चित करेंगी. इसके अलावा प्राइवेट कंपनी ट्रेन के डिब्बों का रखरखाव भी अपने हिसाब से करेंगी.

व्यस्त रूट और यात्री संख्या को देखते हुए दिल्ली और मुंबई रूट के लिए सबसे ज्यादा एप्लीकेशन मिली हैं. 19 कंपनियों की एप्लीकेशन में से हर किसी को मुंबई और दिल्ली रूट के लिए योग्य पाया गया है. चंडीगढ़ और चेन्नई रूट के लिए 5 योग्य एप्लीकेशंस हैं. जयपुर और सिकंदराबाद रूट के लिए 9 एप्लीकेशन, हावड़ा, बेंगलुरु और पटना रूट के लिए 8-8 एप्लीकेशन योग्य पाईं गई हैं.

रेलवे के अनुसार प्राइवेट ट्रेनों का डिजाइन इस तरह से किया जाएगा कि वे 160 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से पटरियों पर दौड़ सके. जिससे यात्री कम समय में ज्यादा दूरी तय कर सकेंगे. आपको बता दें इस परियोजना के लिए 35 साल का अनुबंध किया जाएगा. जिसमें ट्रेनों को चलाने वाला प्राइवेट यूनिट, भारतीय रेलवे को ढुलाई शुल्क, वास्तविक खपत के आधार पर बिजली का पैसा देंगे.

फिलहाल आईआरसीटीसी तीन प्राइवेट ट्रेनों का परिचालन करता है, जिसमें वाराणसी-इंदौर मार्ग पर काशी-महाकाल एक्सप्रेस, लखनऊ-नई दिल्ली तेजस और  अहमदाबाद-मुंबई तेजस एक्सप्रेस शामिल है.