Tokyo Olympics: भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने रचा इतिहास, जर्मनी को 5-4 से हराया, 41 साल बाद ओलंपिक में जीता कांस्य पदक

    605

    टोक्यो ओलंपिक में भारत ने जर्मनी को 5-4 से हराकर ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम कर लिया है. ओलंपिक खेलों में 41 साल बाद भारत ने हॉकी में कोई पदक अपने नाम किया है. इससे पहले भारत ने 1980 में मॉस्को ओलंपिक में गोल्ड मेडल अपने नाम किय था।

    इस मैच में जर्मनी ने शानदार शुरुआत की थी. उसने खेल की शुरुआत में दूसरे ही मिनट में गोल कर दिया था. पहले क्वॉर्टर में एक गोल की बढ़त बनाए रखने के बाद दूसरे क्वॉर्टर में भारत ने गोल करके अपना खाता जरूर खोला था. लेकिन इसके बाद जर्मनी ने बैक टू बैक 2 गोल करके भारत को दबाव में ला दिया.

    हालांकि भारत ने भी इसी क्वॉर्टर में ही जर्मनी की बढ़त को उतार दिया और भारत ने दो क्वॉर्टर के बाद स्कोर को 3-3 से बराबर रखा. खेल के तीसरे क्वॉर्टर में भारतीय टीम इस पल की कीमत को बखूबी समझते हुए जर्मनी पर अपने दबाव बढ़ा दिया. इस क्वॉर्टर में भारत ने जर्मनी पर 2 गोल दागकर उस पर दबाव बना दिया.

    भारतीय टीम 1980 में मॉस्को ओलंपिक में गोल्ड जीतने के बाद भारत को इस खेल से कोई ओलंपिक पदक नहीं मिल पाया था. लेकिन इस बार भारत ने यह सपना साकार कर दिया है. ओलंपिक इतिहास में 8 गोल्ड मेडल जीत चुके भारत का यह तीसरा ब्रॉन्ज मेडल है.