India China : भारत-चीन सीमा पर फिर से तनाव – आज संसद में बयान दे सकते है रक्षा मंत्री

46
INDIA-CHINA MILITARY TALKS
INDIA-CHINA MILITARY TALKS

अरुणाचल प्रदेश में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई है। इस घटना में दोनों देशों के सैनिक घायल हुए हैं। भारतीय सैनिकों का इलाज गुवाहाटी के आर्मी हॉस्पिटल में किया जा रहा है। अरुणाचल प्रदेश के तवांग जिले के यंगस्टे में यह झड़प हुई है। रक्षा मंत्रालय की तरह से बताया गया है कि 9 दिसंबर 2022 को भारत और चीन के सैनिकों के बीच झड़प हुई है।

तवांग में चीन की पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी एलएसी तक पहुंचना चाहती थी। भारतीय सैनिकों ने चीनी सैनिकों के इस कदम का दृढ़ता और ताकत के साथ विरोध किया है। इस दौरान दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई है। लेकिन भारती जवानों ने एलएसी तक पहुंचने की कोशिश कर रहे चीनी सेनाओं को खदेड़ दिया।

संघर्ष के तुरंत बाद दोनों पक्ष इलाके से पीछे हट गए। चीनी पीएलए सैनिकों की संख्या लगभग 300 थी जो भारी तैयारी के साथ आए थे, उन्हें उम्मीद नहीं थी कि उनका सामना करने के लिए भारतीय सैनिक पूरी तरह से तैयार होंगे। 9 दिसंबर को चीनी पीएलए सैनिकों और भारतीय सैनिकों के बीच अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर में संघर्ष हुआ। भारतीय सैनिकों ने चीनी सैनिकों को करारा जवाब दिया। घायल चीनी सैनिकों की संख्या भारतीय सैनिकों की तुलना में अधिक है।

भारत और चीन के सैनिकों के बीच जिस जगह पर झड़प हुई है उसे भारत और चीन के बीच की वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के नाम से भी जाना जाता है। पूर्वी थिएटर में बड़े पैमाने पर सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश में एलएसी से लगते सीमावर्ती क्षेत्र शामिल हैं और सीमांत क्षेत्रों में तवांग और उत्तरी सिक्किम क्षेत्र सहित कई संवेदनशील अग्रिम स्थान हैं।

भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच पिछले साल अक्टूबर में भी यांग्त्से के पास एक संक्षिप्त टकराव हुआ था और स्थापित प्रोटोकॉल के अनुसार दोनों पक्षों के स्थानीय कमांडरों के बीच बातचीत के बाद इसे सुलझा लिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here