टाटा मोटर्स के शेयरों में 8 दिन से लगातार जोरदार तेजी, आज इसमें 6 फीसदी से ज्यादा की उछाल, 52 सप्ताह के उच्च्तम स्तर पर पहुंचा

305

टाटा मोटर्स के शेयरों ने सोमवार को दलाल स्ट्रीट पर सभी को चौंका दिया. सोमवार को कारोबार के दौरान टाटा मोटर्स के शेयर्स करीब 13 फीसदी की उछाल के साथ 52 सप्ताह के उच्चतम स्तर पर पहुंच गए. हेवी वॉल्युम ट्रेड की वजह से अपर सर्किट भी लगाना पड़ा. दरअसल, कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया है कि टेस्ला अपने वाहनों को भारत में बेचने लिए टाटा मोटर्स के साथ करार करने वाली. इसके तहत टेस्ला टाटा मोटर्स की मौजूदा फैसिलिटीज का इस्तेमाल कर सकेगी. यह भी कहा गया कि टेस्ला ने इस बारे में पूरी जानकारी जुटा ली है. कंपनी ने पाया कि सभी ऑटो कंपनियों की तुलना में टाटा के पास ही सबसे बेहतरीन इलेक्ट्रिक व्हीकल इन्फ्रास्ट्रक्चर है. हालांकि, इस बारे में दोनों कंपनियों की तरफ से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है.

टाटा मोटर्स के शेयरों में आज आठवें दिन भी तेजी देखने को मिल रही है. पिछले 8 कारोबारी दिनों में कंपनी के शेयर्स करीब 25 फीसदी तक चढ़े हैं. मंगलवार (11 जनवरी 2021) को टाटा मोटर्स के शेयर 6 फीसदी से ज्यादा बढ़त के साथ 234 के आसपास ट्रेड कर रहे हैं. इसके पहले सोमवार को एनएसई पर टाटा मोटर्स के शेयर्स 12.64 फीसदी की बढ़त के साथ 223.20 रुपये पर पहुंच गए थे. बीएसई पर यह 11.11 फीसदी की बढ़त के साथ 220.10 रुपये प्रति शेयर पर पहुंच गए थे. मार्च में न्यूनतम स्तर पर पहुंचने के बाद अब तक कंपनी के शेयरों में 250 फीसदी की तेजी देखने को मिली है.

दरअसल, पिछले कुछ महीनों में टाटा मोटर्स के शेयरों में इस तेजी का सबसे बड़ा कारण कंपनी की वाहनों का सेल्स रहा है. टाटा मोटर्स के घरेलू और जेएलआर बिज़नेस ने उम्मीद से बेहतर परफॉर्म किया है. दिसंबर महीने में कंपनी का कुल डोमेस्टिक सेल 53,430 यूनिट रहा है. पिछले साल की समान अवधि की तुलना में यह 21 फीसदी ज्यादा है.

टाटा मोटर्स के जेएलआर बिजनेस ने सोमवार को 2020 में सेल्स के आंकड़े भी जारी किया है. कोरोना महामारी की वजह से कंपनी के सेल्स पर बुरा प्रभाव पड़ा है. लेकिन, चीन में मजबूत सेल्स आंकड़े के दमपर कंपनी ने रिकवरी को लेकर उम्मीद जगाई है.

दिसंबर तिमाही तक रिटेल सेल्स का आंकड़ा 13.1 फीसदी बढ़कर 1,28,469 वाहनों पर पहुंच गया है. इसके पहली तिमाही में 1,13,569 वाहनों की ही बिक्री हुई थी. हालांकि, पिछले साल की सामान अवधि की तुलना में यह 9 फीसदी कम है. पिछली तिमाही में चीन के सेल्स आंकड़े पर नजर डालें तो यह बेहतर रहा है. इसमें 20.2 फीसदी की बढ़त देखने को मिली है. साल-दर-साल पर इसमें 19.1 फीसदी का इजाफा हुआ है.