कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते जर्मनी में एक बार फिर सख्त लॉकडाउन लगाया गया, मंदी का खतरा बढ़ा

509

कोरोना वायरस के कारण जर्मनी में एक बार फिर सख्त लॉकडाउन लगाया गया है। यह लॉकडाउन 16 दिसंबर से 10 जनवरी के बीच होगा। इस दौरान जरूरी सामान के अलावा अन्य सभी दुकानें और मॉल बंद रहेंगे। उधर, अर्थशास्त्रियों ने सोमवार को कहा कि जर्मनी के एक और सख्त लॉकडाउन के फैसले से यूरोप की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में एक और मंदी का खतरा बढ़ गया है। चांसलर एंजेला मर्केल के एक शीर्ष सहयोगी ने सोमवार को कहा कि जर्मनी में अगले साल की शुरुआत में लॉकडाउन को खत्म होने की संभावना नहीं है। यूरोप की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था जर्मनी को सर्दियों के महीनों में कई प्रकार के प्रतिबंधों से जूझना होगा।

मार्केल और जर्मन राज्य के नेताओं ने बुधवार से अधिकांश दुकानों को बंद करने पर सहमति व्यक्त की। 10 जनवरी तक कोरोना संक्रमणों के एक ज्वार को रोकने के लिए लगाए गए हल्के प्रतिबंध असफल साबित हुए। मर्केल के चीफ ऑफ स्टाफ हेल्ग ब्रौन ने कहा कि एक व्यापक स्तर सहजता की अभी संभावना नहीं है।

उन्होंने कहा कि सांस संबंधी संक्रमण के मामले में जनवरी और फरवरी हमेशा मुश्किल महीने होते हैं। सख्त नियमों के तहत 16 दिसंबर से केवल आवश्यक दुकानें जैसे कि सुपरमार्केट, फार्मेसियों और बैंक खुले रहेंगे। बाल सैलून, ब्यूटी पॉर्लर और टैटू पार्लरों को भी बंद करना होगा। कोरोना संक्रमण को लेकर रॉबर्ट कोच इंस्टीट्यूट (आरकेआई) ने सोमवार को 16,000 से अधिक नए मामलों और 188 मौतों की सूचना दी। पिछले सप्ताह के अंत में इससे लगभग आधे मामले दर्ज किए गए थे। इससे पहले ड्रॉप को लेकर कम टेस्ट किए जा रहे थे और सप्ताहांत के दौरान कम डेटा आरकेआई को हस्तांतरित किया जा रहा था।